दल्लीराजहरा पुलिस की कामयाबी, महज 18 घंटे के भीतर 3 नाबालिग बच्चो को मिलवाया उनके माता पिता से तो 3 माह में 7 ऐसे ही मामलों को चंद घंटों में किया निपटारा

- जेके

बालोद/ दल्लीराजहरा: जिले के दल्लीराजहरा थाना प्रभारी के सतर्कता और सूझबूझ से महज 18 घंटे के भीतर 3 बच्चो को उनके माता पिता से मिलवाने में अहम भूमिका निभाई है। जिसमे 3 साल व 5 साल के एक ही परिवार के 2दो बच्चे शामिल है तो एक 15 साल की लड़की है। जिसे रात को करीब 12 बजे उनके माता पिता के सुपुर्द किया गया है। यही नही दल्लीराजहरा थाना प्रभारी कुमार गौरव साहू द्वारा 3 माह के भीतर 7 ऐसे ही बच्चो को ढूंढकर उनके माता पिता के सुपुर्द कर चुके है।

थाना प्रभारी की सक्रियता के चलते हुआ संभव

गौरतलब है कि बीती रात करीब 11 दल्लीराजहरा बस स्टैंड में एक 15 साल की बच्ची बैठी हुई थी। जिसपर एक स्थानीय युवक की नजर पड़ी और थाना प्रभारी को सूचित कर दिया। जिसके बाद थाना प्रभारी जब मौके पर पंहुंचे तो नाबालिक युवती डौंडी लोहारा क्षेत्र के कामता गांव निवासी के रूप में पहचान हुई।

जिसके बाद नाबालिग से पूछताछ के दौरान उनके माता पिता की जानकारी मिलने पर उनके परिजनों को तत्काल सूचित किया गया और पूछताछ के दौरान नाबालिग युवती के बारे में पता चला कि वह कक्षा 9वी में 83% अंक अर्जित कर उत्तीर्ण हुई जिसपर नाबालिग युवती को थाना प्रभारी ने 500 रुपये के प्रोत्साहन राशि दिए और उनके माता पिता को सुपुर्द कर दिया गया।

3 साल व 5 साल के बच्चों को मिलाया माता पिता से

वही सोमवार को दल्लीराजहरा निवासी अनिल साहू दोपहर करीब 12 बजे थाना पहुंच अपने 3 साल व 5 साल के बच्चे का अचानक लापता होने की जानकारी थाने में दी। जिसके बाद थाना प्रभारी द्वारा खुद शहर में भ्रमण कर रहे थे। इस बीच सबसे पहले 3 साल के बच्चे योगेश साहू पर नगर के एक गन्ना रस दुकान बैठे दिखाई दिए।

वहीं कुछ देर बाद दूसरे भाई जय कुमार साहू का पतासाजी करते हुए नगर के ही मोती होटल से दूसरे बच्चे की भी सकुशल बरामदगी की गई। और दोनो बच्चो के मिलने के बाद उनके पिता को सूचित कर थाने बुलाकर दोनो ही बच्चो को उनके पिता के सुपुर्द कर दिया गया।

advt
Back to top button