सुप्रीम कोर्ट ने सरकार से निजी लैब में जांच की व्यवस्था निशुल्क करने को कहा

नई दिल्ली: सरकारी अस्पतालों की व्यवस्था की वजह से अनेक लोग निजी लैब की ओर रुख करते हैं. कोरोना वायरस के टेस्ट किट महंगे होने के कारण जांच के लिए चार हजार रुपए तक खर्च हो जाता है, जो सामान्य परिवार के लिए बहुत भारी पड़ता है.

इस बात को ध्यान में रखते हुए सुप्रीम कोर्ट ने मधिवक्ता तुषार मेहता से कहा कि निजी लैब कोरोना संक्रमण की जांच के लिए ज्यादा पैसा न वसूले. वहीं सरकार कोई ऐसा प्रभावशाली तंत्र बनाए जिससे निजी लैंब में जांच के लिए लगने वाली राशि का भुगतान किया जा सके.

इस पर महाधिवक्ता तुषार मेहता ने सरकार की ओर से इस बात पर विचार करने की बात कही. सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को कोरोना संक्रमण की निजी लैब में महंगी जांच पर सरकार से जवाब तलब किया.

Tags
Back to top button