टेक्नोलॉजीराष्ट्रीय

बढ़ते प्रदूषण की समस्या को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने इन तीनों राज्यों को दिया यह निर्देश

तीनों राज्यों को एयर प्यूरिफायर टावर लगाने की योजना बनाकर देने के दिये निर्देश

नई दिल्ली: बढ़ते प्रदूषण की समस्या को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने पंजाब, दिल्ली और उत्तर प्रदेश के सचिवों को प्रदूषित हवा से निपटने के लिए एक साथ बैठकर 10 दिनों के अंदर ही अलग-अलग शहरों में एयर प्यूरिफायर टावर लगाने की योजना बनाकर देने के निर्देश दिये.

एयर प्यूरीफायर टावर हवा में मौजूद पाल्यूटेंट को जैसे पीएम 2.5, नाइट्रेट और सल्फर डाई ऑक्साइड को हटा करके वातावरण को साफ करता है. एयर प्यूरिफायर टावर सोलर एनर्जी के मदद से काम करता है.

सबसे पहले एयर प्यूरीफायर टावर में बने ग्लासहाउस में प्रदूषित हवा भर जाती है जिसे सोलर एनर्जी की मदद से गर्म किया जाता है. टावर का बेस में ग्रीनहाउस की कोटिंग होती है जिससे सूर्य की कम रोशनी में भी काम करता है.

टावर में हवा को साफ करने के लिए फिल्टरों की कई लेयर होती हैं. हवा गर्म होने के बाद हल्की होने की वजह से टावर में ऊपर की तरफ उठती है और टावर में लगे फिल्टर से पास होने के बाद हवा में मौजूद पॉल्यूटेंट की मात्रा कम हो जाती है. इससे प्रदूषित हवा साफ हो जाती है.

चाइना के झियान शहर में दुनिया का सबसे बड़ा एयर प्यूरिफायर टावर है. ये एयर प्यूरिफायर टावर 100 मीटर ऊंचा है. ये एयर प्यूरिफायर टावर हर दिन 1 करोड़ क्यूबिक मीटर तक हवा को साफ करता है.

ये टावर 10 किलोमीटर के क्षेत्र की प्रदूषित हवा को साफ करने में सक्षम है. चाइना ने साल 2015 में इस एयर प्यूरिफायर टावर को बनाने का काम शुरु किया था और पिछले साल 2018 में टावर बन के तैयार हो गया.

Tags
Back to top button