कुंडली का दसवाँ भाव मुख्य रूप से रोजगार का भाव होता है

आचार्य पं. श्रीकान्त पटैरिया (ज्योतिष विशेषज्ञ)

किसी भी प्रकार की समस्या समाधान के लिए सम्पर्क कर सकते हो,
सम्पर्क सूत्र:- 9131366453

सामान्य सी बात है अच्छे रोजगार की जरुरत सभी को होती है जो रोजगार अच्छा धन दे सके जिससे जातक अपनी आजीविका चला सके और अन्य सांसारिक भोग विलास के साधन जुटा सके।

कुंडली का दसवा घर और दसवे घर का स्वामी जैसी स्थिति में होंगा उसी के अनुसार जातक का रोजगार होता है।

दशमेश, दशम भाव की शुभ और मजबूत स्थिति अच्छा रोजगार देने में सक्षम होती है।

दसवे घर के साथ नवा घर, नवमेश भी शुभ और अच्छी स्थिति में होने से सोने पर सुहागे वाली जैसी बात होती है क्योंकि नवा भाव भाग्य होता है।

जिन भी जातको को नोकरी, व्यापार आदि में दिक्कत आ रही है…बिजनेस वह नोकरी में सघर्ष बना हुआ है….

उन्हें अपनी जन्मपत्रिका(जन्मकुंडली) में बैठे ग्रह की स्थिति अनुसार सरल ज्योतिष उपाय अवश्य ही करने चाहिए..

किसी भी प्रकार की समस्या समाधान के लिए आचार्य पं. श्रीकान्त पटैरिया (ज्योतिष विशेषज्ञ) जी से सीधे संपर्क करें = 9131366453

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button