रायगढ़ का बेटा कर्नल ‘विप्लव’ मणिपुर में शहीद..पत्नी व मासूम बेटे की मौत

रायगढ़ का बेटा कर्नल ‘विप्लव’ मणिपुर में शहीद.. माओवादियों के हमले में कर्नल विप्लव उनकी पत्नी व मासूम बेटा शहीद ! वरिष्ठ पत्रकार सुभाष त्रिपाठी के बड़े बेटे हैं विप्लव.. मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने इस कायराना हमले की निंदा करते हुए शहीदों को दी श्रद्धांजलि

हिमालय मुखर्जी ब्यूरो प्रमुख रायगढ़

Terrorists Attack on Army Contingent in Manipur: मणिपुर के सिंगनगाट इलाके से एक बड़ी खबर सामने आई है। यहां आतंकियों ने सेना की टुकड़ी पर घात लगाकर हमला कर दिया जिसमें 46 असम राइफल्स के रायगढ़ निवासी कर्नल विप्लव त्रिपाठी समेत चार जवान शहीद हो गए हैं। हमले में कर्नल की पत्नी और नाबालिग बेटे की भी मौत हुई है। कर्नल विप्लव त्रिपाठी रायगढ़ के वरिष्ठ पत्रकार सुभाष त्रिपाठी के बड़े बेटे हैं। इस हमले में कर्नल विप्लव समेत उनकी पत्नी अनुजा, पुत्र अबीर पर माओवादियों ने घात लगाकर हमला कर दिया। इस हमले में कर्नल विप्लव सहित उनका पूरा परिवार शहीद हो गया।

शहीद कर्नल विप्लव पुत्र अबीर वरिष्ठ पत्रकार सुभाष त्रिपाठी के साथ

जानकारी के मुताबिक घटना चुराचंदपुर जिले के सिंगनगाट के सेहकेन गांव में शनिवार सुबह 10 बजकर 30 मिनट पर हुई है। इस हमले के पीछे मणिपुर के चरमपंथी संगठन पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) का हाथ माना जा रहा है। सेहकेन जिला मुख्यालय चुराचंदपुर से लगभग 65 किलोमीटर दूर बेहियांग क्षेत्र में एक सीमावर्ती गांव है। जहां सेना ने आतंकियों पर कार्रवाई के लिए ऑपरेशन शुरू कर दिया है। बता दे कि की यह हमला तब हुआ जब कर्नल विप्लव त्रिपाठी चेक पोस्ट का निरीक्षण करने के लिये अपने तीन गाड़ियों के काफिले के साथ निकले हुए थे आज उनके साथ उनका परिवार भी मौजूद था।

जब कर्नल चेक पोस्ट का निरीक्षण कर वापस लौट रहे थे उसी दौरान माओवादीयों ने काफिले में ब्लास्ट किया तो पहली गाड़ी ब्लास्ट से उड़ गयी काफिले के बीच चल रहे में कर्नल विप्लव सपरिवार मौजूद थे उनकी गाड़ी पर भी माओवादियों ने मोर्टार और गोलियों की बौछार शुरू कर दी। इस हमले में घटनास्थल पर ही कर्नल विप्लव एवं उनकी पत्नी अनुज और पुत्र अबीर भी शहीद हो गया।

यात्री कल्याण संघ की मुसीबतें बढ़ी..बसों का संचालन 2 फेस मे किये जाने की मांग

जिस समय असम राइफल्स यूनिट के कमांडिंग अफसर के काफिले पर घात लगाकर हमला किया गया, तब काफिले में त्वरित प्रतिक्रिया टीम के सदस्य और अफसर के परिवार वाले शामिल थे। मणिपुर के मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह ने समाचार एजेंसी पीटीआई को पुष्टि की है कि घात लगाकर किए गए हमले में कमांडेंट और जवानों के शहीद होने समेत उनके परिवार के लोगों की मौत हुई है।

मणिपुर के मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह ने भी ट्वीट करते हुए घटना की निंदा की है। उन्होंने ट्वीट में लिखा है, ’46 असम राइफल्स के काफिले पर हुए कायरतापूर्ण हमले की कड़ी निंदा करता हूं, जिसमें आज सीसीपुर में सीओ और उनके परिवार सहित कुछ कर्मियों की मौत हो गई है। राज्य बल और अर्धसैनिक बल पहले से ही उग्रवादियों को पकड़ने का काम कर रहे हैं। दोषियों को न्याय के कटघरे में खड़ा किया जाएगा।’

कर्नल विप्लव की शहादत की खबर मिलते ही शहर के हंडी चौक स्थित वरिष्ठ पत्रकार सुभाष त्रिपाठी के मकान में रायगढ़ के पत्रकारों के अलावा शहर के संभ्रांत जनों का तांता लग गया है। वरिष्ठ पत्रकार सुभाष त्रिपाठी का छोटा बेटा भी अपने बड़े भाई की तरह सेना में ऑफिसर है और मणिपुर में ही पदस्थ है। वह 1 दिन पहले ही रायगढ़ पहुंचा हुआ था। घटना की सूचना मिलने पर वह तुरंत मणिपुर के लिए रवाना हो गया है । कर्नल विप्लव और उनके शहीद हुए परिवार के पार्थिव शरीर को सेना के विशेष विमान द्वारा कल रायगढ़ लाया जाएगा।

आतंकी संगठन है पीएलए

इस हमले के लिए पीपुल्स लिबरेशन आर्मी को जिम्मेदार माना जा रहा है। इसका गठन साल 1978 में हुआ था।बाद में भारत सरकार ने इसे आतंकी संगठन घोषित कर दिया था (PLA Attack in Manipur) ये संगठन मणिपुर में भारतीय सुरक्षाबलों पर धोखे से हमले करने के लिए जाना जाता है. इसका गठन बिश्वेसर सिंह ने किया था। आतंकी संगठन पीएलए स्वतंत्र मणिपुर की मांग करता है।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button