छत्तीसगढ़

ग्रामीणों ने सीखा मशरुम बीज के उत्पादन का तरीका

राजनांदगांव  । राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन के अंतर्गत पंडित शिव कुमार शास्त्री कृषि महाविद्यालय एवं अनुसंधान केन्द्र राजनांदगांव द्वारा 20 सितम्बर 2017 को विकासखंड राजनांदगांव के ग्राम मुरेटीटोला, बांधाटोला, गोटाटोला, अरजकुण्ड एवं सुरगी में मशरूम स्पॉन (बीज) एवं मदर स्पॉन उत्पादन  तकनीक  पर एक दिवसीय प्रशिक्षण शिविर का आयोजन किया गया। शिविर  विभिन्न स्व-सहायता समूहों से जुड़े 30 ग्रामीण महिलाओं एवं पुरूषों को मशरूम बीज (स्पॉन) में आत्मनिर्भर बनाने हेतु बीज (स्पॉन) उत्पादन का प्रशिक्षण दिया गया।
प्रशिक्षण में मशरुम बीज के महत्व के संबंध में जानकारी दी गई। प्रशिक्षण में बताया गया कि किसानों को आत्मनिर्भर बनने एवं खेती के साथ-साथ अतिरिक्त आय प्राप्त करने के लिये स्पॉन तथा मदर स्पॉन तकनीक की उपयोगिता के संबंध में जानकारी दी गई। इसके साथ ही मशरुम बीज उत्पादन में उपयोगी उपकरणों के साथ-साथ मशरुम का शुद्व कल्चर प्राप्त करने हेतु संवर्धन माध्यम की जानकारी दी गई। संवर्धन माध्यम तैयार करना एवं निर्जमीकरण, मशरुम फलनकाय से शुद्व संवर्धन प्राप्त करने की विधि, मदर स्पॉन तैयार करने हेतु माध्यम का चुनाव, तैयारी एवं प्रदर्शन, निर्जमीकृत माध्यम पर शुद्व कल्चर प्राप्त करने की विधि कृषकों को सिखाया गया।

Related Articles

Leave a Reply