इस गांव के मतदाताओं ने किया चुनाव बहिष्कार, अपनी मांग को लेकर अड़े हैं ग्रामीण

आज छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव के दूसरे चरण के मतदान के जारी हैं

बालोद।

आज छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव के दूसरे चरण के मतदान के जारी हैं। वही एक ऐसा गांव हैं, जहां के लोग अब वोट देने के लिए तैयार नहीं हुए हैंं।

बालोद जिले के संजारी बालोद विधानसभा के ग्राम पंचायत सिवनी के आश्रित गांव औराभाठा के ग्रामीण सिंचाई ग्राम से राजस्व ग्राम बनाने की मांग को लेकर अब तक अड़े हुए हैं।

शासन प्रशासन के प्रति गुस्सा व नाराज़गी इतनी है कि इस गांव के 222 मतदाताओं ने अपनी मांगों को लेकर चुनाव बहिष्कार कर मतदान नही करने का फैसला लिया हैं।

वता दें विगत 100 वर्षों से ज्यादा इस गांव के लोग अपना अधिकार मांगते आ रहे हैं। पर शासन-प्रशासन, विधायक, नेताओं व जनप्रतिनिधियों से अगर मिला हैं तो सिर्फ आश्वासन।

सिचाईं ग्राम से राजस्व ग्राम बनाने की मांग एवं अन्य अधिकारों के लिए लड़ाई लड़ रहे यहां के सैकड़ों ग्रामीणों की मांग अब तक पूरी नही हुई हैं। बता दे कि ग्राम औराभाठा के ग्रामीणों ने चुनाव बहिष्कार की चेतावनी पहले ही दे दी थी।

जिसके बाद स्थायी पट्टा नही तो वोट नही के नारे के साथ व गांव के सभी प्रमुख सड़कों में बैनर, पोस्टर लगा चुनाव बहिष्कार की चेतावनी दी थी। जिसके बाद कई दफा प्रशासनिक अमला ग्रामीणों से बात करने व चुनाव बहिष्कार न करने की बात की थी।

पर ग्रामीणों का अपनी मांगों को लेकर गुस्सा व नाराज़गी इतनी हैं कि उन्होंने उनकी एक नया मानी और चुनाव का बहिष्कार करते हुए समाचार लिखे जाने तक गांव औराभाठा का कोई भी मतदाता मतदान करने नहीं पहुंचा।

1
Back to top button