राष्ट्रीय

नेपाल और श्रीलंका से भी ज्यादा भारत में हैं भूखे और कुपोषित बच्चे

118 देशों की लिस्ट में भारत 100 वें नंबर पर. साउथ एशिया में सबसे ऊपर 29वें पायदान पर चीनदेश एक तरफ विकास के सपने देख रहा है तो दूसरी तरफ भूखमरी, कुपोषण और पिछड़ेपन जैसी समस्याएं आज भी बरकरार हैं. देश में भूखमरी कई छोटे देशों के मुकाबले भी ज्यादा है. यहां लोगों को दो जून की रोटी तक नसीब नहीं हो पा रही है.

वाशिंगटन स्थित इंटरनेशनल फूड पॉलिसी रिसर्च इंस्टीट्यूट (आईएफपीआरआई) द्वारा जारी ग्लोबल हंगर इंडेक्स-2016 के मुताबिक, भारत का नंबर नेपाल, बांग्लादेश और श्रीलंका से भी पीछे है. यानी इन देशों के मुकाबले भारत में कम लोगों को दो वक्त का भरपेट खाना मुहैया हो पा रहा है.

ग्लोबल हंगर इंडेक्स-2016 के मुताबिक, 118 देशों की लिस्ट में भारत 100वें पायदान पर है. इस हिसाब से भारत में 5 में से हर दूसरा बच्चा कुपोषण का शिकार है. भारत के मुकाबले पड़ोसी देशों की स्थिति काफी बेहतर है. इस लिस्ट में नेपाल 72वें पायदान, बांग्लादेश 88वें पायदान, श्रीलंका 84वें पायदान और म्यांमार 77 वें पायदान पर है. चीन इस मामले में भारत से काफी बेहतर स्थिति में है. इस लिस्ट में चीन 29वें नंबर पर है. साउथ एशिया में सबसे नीचे पाकिस्तान है. 118 देशों की लिस्ट में उसका नंबर 106वें पर है.

हालात सुधरे हैं लेकिन पूरी तरह नहीं
साल 2000 के मुकाबले अब भुखमरी और कुपोषण जैसे मामलों में 29 फीसदी की कमी आई है. लेकिन आज भी 15.2 फीसदी लोगों को खाली पेट ही सोना पड़ रहा है. इनमें से करीब 39 फीसदी बच्चे कुपोषित हैं.

Summary
Review Date
Reviewed Item
कुपोषित बच्चे
Author Rating
51star1star1star1star1star

Tags
jindal

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.