छत्तीसगढ़

यहां नक्सलियों से नहीं मच्छरों के काटने से होती हैं मौतें

जगदलपुर: नक्सल प्रभावित इलाकों में जवानों को नक्सलियों और मलेरिया दोनों से लडऩा पड़ रहा है। रविवार को कोबरा बटालियन के एक जवान की मौत हो गई। जवान का नाम बरमानंद है।
चिंतागफा में कोबरा 206 में पदस्थ बरमानंद उत्तर प्रदेश निवासी की तबियत अचानक खराब हो गई। वहां प्राथमिक उपचार के बाद जवान को फोर्स की एम्बुलेंस से सुबह 9 बजे जिला अस्पताल लाया गया। जहाँ उपचार के दौरान करीब 10 बजे जवान की मौत हो गई।
डॉक्टरों के मुताबिक जवान को फेल्सीपेरम मलेरिया हो गया था, जो कि मलेरिया का सबसे खतरनाक प्रकार है, यह मस्तिक को गंभीर रूप से प्रभावित करता है। बताया जा रहा है कि जवान का कैम्प में साधारण इलाज ही किया जा रहा था, जिसकी वजह से उसकी हालत गंभीर हो गई।
दक्षिण बस्तर में कई ऐसी जगहें हैं जहां नक्सलियों से ज्यादा जवानों को मलेरिया जैसी बीमारियों और मच्छरों से लडऩा पड़ रहा है। बस्तर के इस इलाके को स्वास्थ्य महकमा द्वारा मलेरिया जोन भी घोषित किया जा चुका है। इन इलाकों में रहने वाले चाहे आदिवासी हों या फिर जवान, इनकी मौतें नक्सलियों की वजह से नहीं बल्कि मलेरिया जैसी बीमारियों की वजह से होती है।

Summary
Review Date
Reviewed Item
यहां नक्सलियों से नहीं मच्छरों के काटने से होती हैं मौतें
Author Rating
51star1star1star1star1star

Tags

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.