शिक्षा समाज के विकास के लिए मेरूदण्ड हैं – चंद्रेश ठाकुर

आदिवासियों की संस्कृति को बताया विश्व की समस्त संस्कृतियों की जननी

अम्बागढ़ चौकी : गोंड़वाना समाज के युवा प्रभाग के संभागीय अध्यक्ष चंद्रेश ठाकुर ने कहा कि समाज के विकास के लिए शिक्षा सबसे अधिक महत्वपूर्ण एवं मेरूदण्ड समान हैं। उन्होंने कहा कि शिक्षा के बिना किसी भी समाज की प्रगति की परिकल्पना करना सर्वथा असंभव है। ठाकुर अम्बागढ़ चौकी विकासखंड के ग्राम तारमटोला में गोड़वाना समाज द्वारा रविवार 24 जून 2018 को आयोजित विरांगना महारानी दुर्गावती बलिदान दिवस समारोह को संबोधित कर रहे थे।

वे कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित थे। ठाकुर ने कार्यक्रम में सभी लोगों को निवेदन करते हुए कहा कि एक समय भोजन भले न करें, किन्तु अपने बाल-बच्चों को अनिवार्य रूप से पढ़ाएं। उन्होंने मद्यपान को समाज के लिए अभिश्राप बताते हुए इसका सर्वथा परित्याग करने की अपील की। उन्होंने स्वजाति जनों को संगठित होकर अपने अधिकारों के लिए निरंतर संघर्ष करने को कहा। इसके अलावा उन्होंने आर्थिक संबंलता को समाज के लिए आवश्यक बताते हुए व्यापार-व्यवसाय में अनिवार्य रूप से भागीदारी निभाने का आग्रह भी किया।

कार्यक्रम की अध्यक्षता सर्कल अध्यक्ष धिरपाल कुंजाम ने किया। कार्यक्रम को अंगद सलामे, राजेन्द्र जुरेशिया, मोहपत समामे, रमेश आंचला ने भी संबोधित करते हुए विरांगना दुर्गावती को व्यक्तित्व एवं कृ तित्व पर प्रकाश डाला। इस अवसर पर गोड़वाना संस्कृति पर आधारित रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों की प्रस्तुति भी दी गई। कार्यक्रम में सर्वनरेन्द्र तारम, रामदेव मंडावी, अरूण घावड़े, टुमन नेताम, गणेश सलामे, सरपंच चंपालाल नेताम, घनाराम नेताम सहित समाज प्रमुखों के अलावा बड़ी संख्या में स्वजाति जन उपस्थित थे।

Back to top button