पंजाब हरियाणा में पिछले 24 घंटो के दौरान पराली जलाने की घटनाओं में ज़बरदस्त बढ़ोतरी

राष्ट्रीय राजधानी में वायु प्रदूषण का मुख्य कारक

नई दिल्ली: दिल्ली में खराब वायु गुणवत्ता के बीच पंजाब और हरियाणा में 27 अक्टूबर तक पराली जलाने में कम से कम 2,400 घटनाओं का इजाफा हुआ है. यह राष्ट्रीय राजधानी में वायु प्रदूषण का मुख्य कारक है.

इसके अलावा हवा के बहने की दिशा दिल्ली की तरफ हैं इसलिए प्रदूषण बढ़ रहा है. रिपोर्ट में कहा गया है कि पराली की वजह से होने वाला प्रदूषण बुधवार को चरम पर पहुंच सकता है. 1 नवंबर को हवा की दिशा बदल सकती है जिस से प्रदूषण में कमी आ सकती है.

सेंट्रल पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड (CPCB) की तरफ से जारी रिपोर्ट में कहा गया था कि दिल्ली में इस बार दीवाली के मौके पर पिछले साल मुकाबले कम पटाखे जलाए गए लेकिन इसके बावजूद दिल्ली का प्रदूषण लगातार बढ़ता जा रहा है.

सीपीसीबी की तरफ से जारी आंकड़ों के मुताबिक पिछले 24 घंटो के दौरान दिल्ली का औसत AQI 400 है. जबकि गाज़ियाबाद पिछले 24 घंटो के दौरान देश का सबसे ज़्यादा प्रदूषित शहर है जहां औसत AQI 446 है. इसी तरह नोएडा का AQI 439, ग्रेटर नोएडा का AQI 428, मुरादाबाद का AQI 424 और पानीपत का AQI 415 है.

Back to top button