बिज़नेस

दालों की महंगाई में नहीं आ रही कमी, एक महीने में डेढ़ गुना तक बढ़ी अरहर की कीमत

सरसों तेल के दाम भी तेजी से बढ़े हैं.

लॉकडाउन के बाद के दिनों और अब कई जगहों पर इसके खुलने के साथ ही खाने-पीने की चीजों में जबरदस्त महंगाई की सामना करना पड़ रहा है. अनाज, दालों और तेल के दाम तेजी से बढ़ रहे हैं. सबसे ज्यादा तेज बढ़त सब्जियों और दालों में देखी जा रही है.सबसे ज्यादा इस्तेमाल की जाने वाली अरहर दाल के दाम पिछले एक महीने में डेढ़ गुना तक बढ़ गए हैं. अरहर के साथ दूसरी दालों के दाम भी बढ़ गए हैं. सरसों तेल के दाम भी तेजी से बढ़े हैं.

85 से बढ़ कर 135 रुपये पर पहुंच गई अरहर दाल की कीमत

अरहर दाल के दाम पिछले दो-तीन महीने पहले 85 से 95 रुपये तक चल रहे थे लेकिन अब ये बढ़ कर 135 रुपये तक पहुंच चुके हैं. मूंग और मसूर की कीमत भी बढ़ी हुई है. सिर्फ मटर दाल में राहत है. आढ़तियों का कहना है अरहर के दाम में बढ़ोतरी का असर दूसरी दालों पर भी पड़ सकता है. फिलहाल मूंग दाल 130 रुपये किलो, चना दाल 80 और उड़द दाल 150 रुपये किलो बिक रहे हैं. मसूर दाल 85 से 100 रुपये तक बिक रही है. चने की अच्छी फसल की वजह से इसके दाम काबू में हैं. हालांकि काला चना एक महीने पहले 60 रुपये किलो बिक रहा था जो अब बढ़कर 70 रुपये पहुंचा है. काबुली चना एक महीने पहले के 75 रुपये किलो से बढ़कर 90 रुपये तक पहुंच गया है.

सरसों तेल के दाम भी बढ़े

जानकारों का कहना है कि कोरोना के चलते बड़ी तादाद में मजदूर गांव लौटे हैं और उन्होंने अरहर की जगह धान और मक्के की बुआई की है. रकबा घटने से भी अरहर के दाम तेज हुए हैं. इसमें आगे भी तेजी बनी रह सकती है.दूसरी ओर आढ़तियों का कहना है कि सरसों के तेल के दाम भी बढ़ने शुरू हो गए हैं. पिछले एक एक महीने में इसके दाम में 30 फीसदी तक उछाल आया है.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button