छत्तीसगढ़

सिहावा क्षेत्र के आठ छात्रावासों में होगी स्थानीय कृषकों की सब्जियों की आपूर्ति

राजशेखऱनायर:

धमतरी: प्रदेश के पहले किसान बाजार में विक्रय किए जाने वाले उत्पादों एवं उसके उद्देश्यों के प्रति ग्रामीणों को जागरूक करने आज नगरी विकासखण्ड के ग्राम मुकुन्दपुर में बैठक आयोजित की गई। इसमें किसान बाजार की कार्यविधि, संचालन, जैविक उत्पाद तथा उससे होने वाले लाभ के बारे में जानकारी दी गई।

प्रत्यक्ष तौर पर लाभ

इस दौरान ग्रामीणों को बताया गया कि किसान बाजार में पंजीकृत कृषक अपने द्वारा उत्पादित सब्जियों को स्वयं बेचते हैं और प्रत्यक्ष तौर पर लाभ अर्जित करते हैं। किसान बाजार के शुरू होने से बिचैलियों की मध्यस्था समाप्त हो गई। इसका फायदा यह हुआ कि बिचैलियों को होने वाले लाभ सीधे किसानों को मिलने लगा है। इससे किसानों की आय दुगनी हो गई।

इसी तरह कलेक्टर रजत बंसल के मार्गदर्शन में किसान बाजार में दो काउण्टर जैविक सब्जियों के भी लगाए गए हैं, जहां पर बिना रसायनयुक्त व पारम्परिक गोबर व अन्य कम्पोस्ट पद्धति से तैयार की गई खाद का उपयोग करके सब्जियां बेची जाती हैं, वह भी उचित मूल्य पर। इसके अलावा किसान बाजार में बिकने वाले अन्य उत्पादों की भी जानकारी ग्रामीणों को दी गई।

सहायक आयुक्त आदिवासी विकास ने बताया कि ‘हमर बाड़ी-हमर बाजार‘ कार्यक्रम के तहत उक्त बैठक का उद्देश्य आश्रम-छात्रावासों में अध्ययनरत छात्र-छात्राओं के लिए किसान बाजार की सब्जियों की आपूर्ति मांग के आधार पर मुहैया कराई जा सके, ताकि उच्च स्तरीय प्रोटीन, विटामिन एवं कैलोरीयुक्त सब्जी से उनका सर्वांगीण विकास हो सके।

इस दौरान ग्राम के किसानों ने भी किसान बाजार की सब्जियों का उपयोग एवं आपूर्ति आश्रम-छात्रावास में किए जाने हेतु सहमति प्रकट की। उन्होंने बताया कि सिहावा क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले आठ छात्रावासों में अब स्थानीय सब्जी उत्पादकों की सब्जियों की आपूर्ति की जाएगी। इसके लिए सब्जी उत्पादकों से सहमति पत्र भी भरवाया गया।

इस अवसर पर क्षेत्र के आश्रम-छात्रावास के अधीक्षक, ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारी तथा काफी संख्या में ग्रामीणजन उपस्थित थे।

Tags
Back to top button