पैरेंटिंग

बच्चों को स्तनपान कराने से महिलाओ को मिलते हैं ये 5 फायदे

जन्म से लेकर 6 महीनों तक बच्चे को सिर्फ मां का ही दूध पिलया जाता है।

जन्म से लेकर 6 महीनों तक बच्चे को सिर्फ मां का ही दूध पिलया जाता है। ये तो आप जानते हैं छोटे बच्चों को स्तनपान करवाना बहुत ही आवश्यक होता है। ये तो आप जानते हैं कि बच्चों को ब्रेस्टफीडिंग करवाना कितना फायदेमंद है। उतना ही फायदा बच्चे को दूध पीलाने वाली मांओं को भी होता है। स्तनपान कराने वाली महिलाएं न सिर्फ रोगमुक्त रहती है बल्कि उनके शिशु की भी सेहत अच्छी रहती है। इसके अलावा भी स्तनपान करवाने के कई फायदे होते हैं।

1. स्तनपान करवाने से मां को प्रेग्नेंसी के बाद होने वाली हैल्थ प्रॉबल्म से राहत मिलती है। तनाव और ब्लड सर्कुलेशन को ठीक करने के लिए बच्चे को स्तनपान जरूर करवाएं।

2. जो महिलाएं बच्चों को ब्रेस्ट फीडिंग करवाती हैं उन्हें ब्रेस्ट और ओवरियन कैंसर नहीं होता। खुद को और बच्चे को बीमारियों से दूर रखने के लिए उनको स्तनपान जरूर करवाएं। हमेशा स्वस्थ रहने के लिए बच्चे को कम से कम 6 महीने के ब्रेस्ट फीडिंग जरूर करवाएं।

3. ब्रेस्ट फीडिंग करवाने से मां को एनिमिया होने का खतरा कम रहता है। इसके साथ ही मां और बच्चे के बीच का भावनात्मक रिश्ता मजबूत होता है। बच्चा अपनी मां को जल्दी पहचानने लगता है।

4. डिलीवरी के बाद जल्दी से वजन कम करना चाहती हैं तो बच्चे को दूध पिलाएं। स्तनपान करवाने से बच्चा हैल्दी होने लगता है और मां अपने परफैक्ट शेप में वापिस आने लगती है।

5. स्तनपान करवाने से मां और बच्चे दोनों ही बीमारियों से बचे रहते हैं। उनको टाइप 1 और टाइप 2 डायबिटीज, कोलेस्ट्रॉल की उच्च मात्रा होने का खतरा काफी हद तक कम हो जाता है।

 <>

Summary
Review Date
Reviewed Item
बच्चों को स्तनपान कराने से महिलाओ को मिलते हैं ये 5 फायदे
Author Rating
51star1star1star1star1star
Tags
jindal