फीमेल्स में होने वाले एंडोमेट्रियल कैंसर के ये हैं कुछ खास लक्षण

एंडोमेट्रियल कैंसर : पेल्विक एरिया यानी पेट के सबसे निचले वाले हिस्से में होने वाला दर्द एंडोमेट्रियल कैंसर का सबसे पहला संकेत है। ये किसी भी उम्र में वैसे तो हो सकता है लेकिन 40 से 60 के उम्र में इसके होने के चांसेज़ ज्यादा होते हैं।

एंडोमेट्रियल कैंसर के लिए कई चीजें जिम्मेदार होती हैं जैसे बढ़ा हुआ वेट, हाई एस्ट्रोजेन लेवल, हाई ब्लडप्रेशर, डायबिटीज आदि।

एंडोमेट्रियल कैंसर का कोई कोई स्क्रीनिंग टेस्ट नहीं होता इसलिए इसकी पहचान कुछ असामान्य लक्षण से ही की जा सती है।

फीमेल्स में होने वाले एंडोमेट्रियल कैंसर के कुछ खास लक्षण :

1. ऐबनॉर्मल वेजाइनल डिसचार्ज:
अगर अचानक से आप कुछ अलग तरह का ऐबनार्मल वेजाइनल डिसचार्ज फील कर रही तो सावधान हो जाएं।

ये एंडोमेट्रियल कैंसर का संकेत हो सकता है। इस दौरान ये भी जरूर नोटिस करें कि इस वेजाइनल डिसचार्ज की मात्रा और रंग कुछ अलग तो नहीं।

2. अचानक से वेट का कम होते जाना :
आपका रोज का रुटीन सेम है लेकिन वेट लगातार बेवजह कम होता जा रहा तो ये भी संकेत नोटिस करने वाला होगा।

अगर वेट कम करने के लिए आप कोई प्रयास नहीं कर रहीं तो इसे गंभीरता से लें और डॉक्टर से संपर्क करें।

3. पेल्विक हिस्से में दर्द :
एंडोमेट्रियल कैंसर से ग्रस्त हर महिला को पेल्विक हिस्से में दर्द हो ऐसा नहीं है लेकिन कुछ मामलों में ऐसा हो सकता है।

कैंसर के कारण अगर गर्भाशय बढ़ जाता है तो इस हिस्से में दर्द और ऐंठन हो सकती है।

4. सेक्स के दौरान दर्द :
सेक्स करते हुए अगर आपको कोई दिक्क्त या दर्द हो तो उसे गंभीरता से लें। ये भी एंडोमेट्रियल कैंसर का संकेत हो सकता है।

मेनोपोज के बाद अगर आपको सेक्स के दौरान हमेशा ही दर्द हो तो इसे नजरअंदाज न करें। डॉक्टर से तुरंत संपर्क करें।

5. बार-बार यूरिनेशन :
एंडोमेट्रियल कैंसर में बार बार यूरिनेशन की दिक्कत आती है। ब्लैडर यूटरेस से जुड़ा होता है।

इससे एंडोमेट्रियल कैंसर का लक्षण ही समझें। कई बार यूरिन करने में परेशानी, यूरिन करते वक्त दर्द भी फील हो सकता है।

1
Back to top button