क्या आपने देखीं ये रेप रोकने की डिवाइस!

पिछले काफी समय से ऐसी डिवाइस की अक्सर चर्चा में आती रहती हैं जिनसे रेप को रोका जा सकता है। इन अंडरवियर से लेकर ऐसे टैंपोन तक की चर्चा होती है जो वजाइना में कुछ भी घुसते ही उसे काट देता है। आज हम आपको दुनिया की कुछ ऐसी ही चीजें बता रहे हैं जो रेप रोकने के लिए बनाई गई हैं।

ऐंटी-रेप कंडोम
इस कंडोम का आविष्कार साउथ अफ्रीका में हुआ था जहां रेप बहुत आम हैं। इसे डॉक्टर सोनीट ईलर ने किया था। इस डिवाइस को ‘रेप-ऐक्स’ कहते थे क्योंकि वास्तव में यह कुल्हाड़ी की तरह ही काम करता था। यह कंडोम रेप करने वाले व्यक्ति के पीनिस को जकड़ लेता था। एक बार जब रेपिस्ट को इस कंडोम ने जकड़ लिया तो न तो वो चल सकता है और न पेशाब कर सकता है। अगर रेपिस्ट इस कंडोम को निकालने की कोशिश करता है तो इसकी ग्रिप और ज्यादा टाइटहोने लगती थी। इसे केवल डॉक्टर ही निकाल सकते थे जिसके लिए रेपिस्ट को हॉस्पिटल जाना पड़ता और उसके बारे में सबको पता चल जाएगा।

ऐंटी रेप टैंपोन
इसका आविष्कार भी साउथ अफ्रीका में जैप हौमन द्वारा किया गया था। इस टैंपोन में स्प्रिंग के साथ एक ब्लेड फिक्स था जो किसी भी चीज का दबाव पड़ने पर उसे काट देता था। इसे ‘किलर टैंपोन’ भी कहा जाता था।

ऐंटी रेप अंडरवेयर
इसका आविष्कार भारतीय इंजिनियरों के एक ग्रुप ने किया था। इस अंडरवेयर से किसी भी लड़की पर हमला करने वाले को बिजली का झटका लगता है। साथ ही यह जीपीएस लोकेशन के साथ पुलिस को मेसेज कर देता है। यह डिवाइस एक बार में किसी भी हमलावर को 82 झटके तक दे सकता है।

ऐंटी रेप जैकेट
यह डिवाइस भी ऐंटी रेप अंडरवेयर की तरह काम करती है। इसका आविष्कार भी भारत की दो लड़कियों ने किया है। इस जैकेट में एक बटन लगा है जिसे दबाने पर 110 वोल्ट का बिजली का झटका लगता है।

ऐंजल विंग बज़िंग ऐंटी रेप डिवाइस
मूलरूप से यह एक अलार्म है जो आपके बैग या चाबियों से जुड़ा होता है। जैसे ही इसे खींचा जाएगा तो डिवाइस 90 डेसीबल की आवाज़ आती है जिससे न सिर्फ रेपिस्ट डर जाएगा बल्कि आसपास गुजरने वाले लोगों का ध्यान भी इस पर जाएगा।

Back to top button