गृह वैद्यहेल्थ

बवासीर के मस्सों और दर्द से राहत दिलाएंगे ये आसान घरेलू उपाय

बवासीर यानी पाइल्स एक ऐसी बीमारी से जिससे आजकल ज्यादातर लोग पीड़ित हैं। इसमें मल के साथ खून आता है और काफी दर्द भी होता है।

बवासीर होने पर मलाशय के आस-पास मस्से हो जाते हैं जिनमें से कई बार खून भी निकलता है। यह बीमारी अधिक मसालेदार भोजन करने की वजह से होती है।

बवासीर के इलाज के लिए लोग ऑपरेशन का सहारा लेते हैं लेकिन कुछ घरेलू नुस्खे अपनाकर भी इससे राहत पाई जा सकती है। आइए जानिए पाइल्स के कारण और राहत पाने के तरीके

कारण

1. कब्ज

बवासीर का सबसे बड़ा कारण कब्ज है। कब्ज की वजह से पेट अच्छे साफ नहीं होता जिस वजह से मलाशय पर मस्से बन जाते हैं।

2. अधिक देर तक बैठना

आजकल ज्यादातर ऑफिस में सीटिंग वर्क ही होता है। ऐसे में अधिक देर तक बैठने वाले लोगों में भी बवासीर होने का खतरा रहता है।

3. प्रैग्नेंसी

गर्भवती महिलाओं में भी बवासीर के संकेत दिख सकते हैं क्योंकि इस अवस्था में महिलाओं की पाचन शक्ति खराब हो जाती है जो पाइल्स का मुख्य कारण है।

4. गलत खान-पान

अधिक मसालेदार खाना, शराब, सिगरेट और जंक फूड खाने की वजह से भी यह समस्या हो सकती है।

5. आनुवांशिक

जिन लोगों के घर में किसी सदस्य को यह बीमारी होती है वहां अगली पीढ़ी में भी किसी व्यक्ति को बवासीर हो सकती है।

घरेलू उपाय

नीम के पत्ते

इसके लिए नीम के कुछ पत्तों को घी में भून कर उसमें थोड़ा-सा कपूर मिलाकर पीस लें। अब इस बवासीर के मस्सों पर रोजाना लगाएं।

हरड़

रोजाना आधा चम्मच हरड़ पाउडर को गुनगुने पानी के साथ लेने से बवासीर के रोग में फायदा होता है।

आक का दूध

आक एक पौधा होता है जिसके पत्तों में से दूध निकलता है। इस दूध में हल्दी पाउडर मिलाकर पेस्ट बनाएं और इसे मस्सों पर लगाएं। कुछ दिन लगातार इस उपाय से मस्से सूखकर गिर जाएंगे।

काली मिर्च और काला जीरा

इसके लिए काली मिर्च और जीरे को पीसकर पाउडर बना लें। रोजाना आधे चम्मच पाउडर को शहद के साथ लेने से फायदा होगा।

लौकी के पत्ते

बवासीर होने पर लौकी के पत्तों को पीसकर इस पेस्ट को मस्सों पर लगाएं। इससे कुछ ही दिनों में फायदा देखने को मिलेगा।

तुलसी के पत्ते

इसके लिए तुलसी के पत्तों को पीसकर लेप बना लें और इसे मस्सों पर लगाएं।

Summary
Review Date
Reviewed Item
घरेलू उपाय
Author Rating
51star1star1star1star1star
Tags

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.