गर्भावस्था के समय घर में रखे ये मुर्ति, बच्चों में होंगे गुणी और संस्कारी गुण

नकारात्मक शक्तियों से बचाने के लिए कमरे में मोर पंख रखना शुभ माना जाता है

हर माता पिता की इच्छा होती है कि उसकी होने वाली संतान गुणी, संस्कारी, बलवान, आरोग्यवान और दीर्घायु हो। वैदिक ज्योतिष शास्त्र में जन्म से लेकर मृत्यु तक कई संस्कारों के बारे में बताया गया है।

जिनमें से पहला संस्कार गर्भधान का माना जाता है। ज्योतिष में गर्भवस्था के दौरान कुछ उपाय बताए गए है जिसका ध्यान रखने पर पैदा होने वाली संतान गुणी और संस्कारी होती है।

गर्भवती महिला जरूर करें ये काम

गर्भवती महिला के कमरे में भगवान कृष्ण के बाल स्वरूप की फोटो या मूर्ति जरूर रखनी चाहिए। गर्भवस्था के दौरान कमरे में बाल गोपाल की फोटो बार-बार देखने से गर्भवती महिला का मन प्रसन्न रहता है और बच्चा भी सुंदर होता है।

गर्भावस्था के दौरान बच्चे को नकारात्मक शक्तियों से बचाने के लिए कमरे में मोर पंख रखना शुभ माना जाता है।

नकारात्मक शक्तियों से बचने के लिए गर्भवस्था के दौरान पूरे घर पर पीले चावलों से छिड़काव करना चाहिए। ज्योतिष में पीले चावल को मंगल का सूचक माना जाता है, ऐसे करने से बच्चे और मां पर नकारात्मक शक्तियों का असर नहीं होता है।

गर्भावस्था के दौरान गर्भवती महिला के कमरे में सफेद और हल्के रंगों का इस्तेमाल ज्यादा से ज्यादा करना चाहिए। सफेद रंग को सुख-समृद्धि और शांति का प्रतीक माना जाता है। हल्के रंगों से गर्भवती महिला के मन और सेहत पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है जिससे सेहतमंद बच्चे का जन्म होता है।

ऐसी मान्यता है कि गर्भावस्था के दौरान नकारात्मक शक्तियां सबसे ज्यादा मां और बच्चे की ओर आकर्षित होती है इसलिए तांबे या लोहे की चीजें पास में रखनी चाहिए।

Back to top button