अपने प्रत्याशियों की घोषणा करने के लिए भी एक दुसरे के इन्तजार में बैठी है ये दो पार्टियाँ

अपने प्रत्याशियों की घोषणा करने के लिए भी एक दुसरे के इन्तजार में बैठी है ये दो पार्टियाँ

रायपुर : जैसे जैसे विधानसभा चुनाव नजदीक आते जा रहा है राजनीतिक दलों से टिकट की दावेदारी कर रहे लोगों की बैचेनी भी बढ़ते जा रही है । दावेदारों की बेचैनी बढ़ तो रही है लेकिन राजनीतिक पार्टियां टिकट वितरण के लिए भी एक दूसरे का मुह ताकते बैठे नजर आ रहे है ।

छत्तीसगढ़ का ताजा राजनीतिक हालात कुछ इसी ओर इशारा कर रही है । जी हां छत्तीसगढ़ में दो चरणों मे 12 और 20 नवंबर को विधानसभा चुनाव के लिये वोट डाले जाएंगे लेकिन अभी तक देश की दो सबसे बड़ी राजनीतिक दलों ने अपने प्रत्याशियों के नाम का एलान नहीं किया है ।

सूत्रों की माने तो कांग्रेस भाजपा के प्रत्याशियों की सूची का इंतजार कर रहे हैं तो वहीं भाजपा कांग्रेस की सूची के इंतजार में बैठी हुई है । दोनों ही दलों के इस रवैये से दावेदारों की नींद उड़ गई है । जानकारों का कहना है कि प्रत्याशियों की सूची जारी करने में जितनी देरी की जाएगी उतना ही नुकसान क्षेत्र से घोषित होने वाले प्रत्याशियों को होगा ।

राजनीतिक जानकारों का कहना है कि लेट से प्रत्याशी घोषित होने के कारण कोई भी दावेदार अपने पूरे विधानसभा क्षेत्र का दौरा नहीं कर पाता है जिसका सीधा फायदा ऐसे केंडिडेट को मिल जाता है जिसका नाम पहले से घोषित हो गया हो । एक दूसरे के इंतजार में बैठी दोनों ही दलों के नेता इन दिनों काफी बैचेन नजर आ रहे हैं ।
ताज़ा हिंदी खबरों के साथ अपने आप को अपडेट रखिये, और हमसे जुड़िये फेसबुक और ट्विटर के ज़रिये

Back to top button