क्राइम

रेप पीड़िता की आपबीती: विडियो बनाते, मारते-पीटते रहे दरिंदे

उनके साथ 6 लोगों ने सारी रात बेरहमी की और उसके 36 घंटे बाद तक उन्हें मदद नहीं मिल सकी

रेप पीड़िता की आपबीती: विडियो बनाते, मारते-पीटते रहे दरिंदे

शहर के बाहरी इलाके की एक सुनसान इमारत में रहनेवाली एक महिला के साथ हुई दरिंदगी की कहानी सुनकर रोंगटे खड़े हो जाते हैं। महिला से 6 लोगों ने 23 नवंबर की सारी रात रेप किया। अमानवीयता की सारी हदें पार करते हुए उन्होंने महिला को प्रताड़ित भी किया। वह अब हिल पाने की स्थिति में भी नहीं हैं।

मारते जा रहे थे और विडियो भी बना रहे थे
पीड़िता 14 साल पहले अपने परिवार को भूकंप में खोने के बाद 50 रुपये प्रतिदिन बेंगलुरु में बर्तन मांजने का काम करती थीं। उन्होंने बताया कि तीन आदमियों ने उन पर हमला किया और दीवार की ओर फेंक दिया। उन्होंने पीड़िता के पैरों पर पत्थरों से वार किया। वह रोती रहीं और दरिंदे फोन पर विडियो बनाते रहे। उन्होंने सारी रात पीड़िता के साथ रेप किया।

पूरा एक दिन उसी हालत में बैठी रहीं, नहीं मिली मदद
पीड़िता ने बताया कि जब वह दरिंदे वहां से चले गए तो वह चलने की हालत में नहीं थीं। अगले दिन 24 नवंबर को किसी तरह बिना कपड़ों के वह इमारत से निकलकर मेन रोड स्थित बस स्टॉप पर आकर बैठीं। वह पूरा दिन वहां बैठी रहीं लेकिन न ही किसी ने उनकी मदद की और न ही वह किसी से मदद मांग सकीं। चोटों के कारण चलने में असमर्थ पीड़िता खिसकते हुए शाम को पास ही एक चाय की दुकान पर जाकर सो गईं। अगले दिन फिर से वह बस स्टॉप पर आ गईं। उन्होंने कूड़े से एक शर्ट निकालकर पहन ली।

उन पर स्त्री समिति की एक कार्यकर्ता की नजर पड़ी। उन्होंने पीड़िता को खाना खाने के लिए दिया और सारी बात बात पता चली। उन्होंने बताया कि किसी गांववाले ने उनकी मदद नहीं की थी। वह इमारत से बस स्टॉप तक खिसकते हुए आ गई थीं। उन्होंने पीड़िता को बोरिंग अस्पताल पहुंचाया। उनकी मांग है कि पीड़िता को निर्भया फंड से सहायता दी जाए।

जितनी शारीरिक, उतनी ही हुई मानसिक पीड़ा
पीड़िता के हाथ-पैरों पर गंभीर चोटें आई हैं। उनके दाएं घुटने में सूजन है और दायां हाथ टूट गया है। उनका इलाज चल रहा है लेकिन जितनी चोटें उनके शरीर पर हैं उतनी ही उनके जहन पर भी। उनके साथ 6 लोगों ने सारी रात बेरहमी की और उसके 36 घंटे बाद तक उन्हें मदद नहीं मिल सकी।

Tags
Back to top button