राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया के जय विलास पैलेस में चोरों ने की सेंधमारी

ग्वालियर प्रवास के समय अपने परिवार के साथ इसी महल में रहते हैं ज्योतिरादित्य सिंधिया

ग्वालियर:ग्वालियर राजघराने से ताल्लुक रखने वाले भारतीय जनता पार्टी के नेता और राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया के पुश्तैनी महल जय विलास पैलेस में चोरी हुई है.

अति सुरक्षित माने जाने वाले इस महल में चोरी की वारदात के बाद यहां मौजूद सुरक्षाकर्मियों पर सवाल उठ रहे हैं. खबर के मुताबिक ग्वालियर स्थित जय विलास पैलेस के रानी महल में धावा बोलकर रिकॉर्ड रूम में एंट्री की और वहां रखे दस्तावेजों को खंगाला.

सिंधिया ग्वालियर प्रवास के समय अपने परिवार के साथ इसी महल में रहते हैं जहां हमेशा कड़ी सुरक्षा रहती है. अति सुरक्षित माने जाने वाले जयविलास पैलेस में सेंधमारी की जानकारी मिलने से पुलिस के हाथ पैर फूल गए और सभी वरिष्ठ अधिकारी मौके पर पहुंच गए.

पुलिस और फोरेंसिक टीम ने जयविलास पैलेस के उस हिस्से से फिंगरप्रिंट और जरूरी साक्ष्य जब्त कर लिए हैं जहां सेंधमारी होना बताया गया है. इसके अलावा स्निफर डॉग की मदद भी ली जा रही है.

फिलहाल यह पता नहीं चल पाया है कि चोरों ने जय विलास पैलेस से क्या चुराया है. सीएसपी रत्नेश तोमर के मुताबिक चोर जय विलास पैलेस में ही बने रानी महल के एक कमरे के किसी छत के रास्ते रोशनदान से अंदर आए हैं और कमरे में तोड़फोड़ की है.

रानी महल के पास इस जगह पर स्टोर है जहां यह पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं कि चोरों की संख्या कितनी थी और उन्होंने क्या-क्या चुराया है. ग्वालियर का जय विलास पैलेस ग्वालियर राजघराने से ताल्लुक रखने वाले ज्योतिरादित्य सिंधिया का पुश्तैनी महल है.

जय विलास पैलेस 12 लाख वर्गफीट से भी ज्यादा बड़ा है. इस सुंदर शाही महल की कीमत करीब 4,000 करोड़ रुपये है. महल में 400 से अधिक कमरे हैं, जिसका एक हिस्सा इतिहास को संजोने के लिए एक संग्रहालय के रूप में उपयोग किया जाता है.

बीजेपी सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ग्वालियर प्रवास के समय अपने परिवार के साथ इसी महल में रहते हैं. यह पूरा महल चारों तरफ से सुरक्षाकर्मियों से घिरा रहता है ऐसे में यहां सेंधमारी लगने से हर कोई हैरान है.

Tags
cg dpr advertisement cg dpr advertisement cg dpr advertisement
cg dpr advertisement cg dpr advertisement cg dpr advertisement

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button