छत्तीसगढ़

कोयलीबेड़ा में थानेदार ने किया नाबालिग आदिवासी किशोरी से बलात्कार

शिकायत करने पर पिता की पिटाई, पंच परमेश्वरों ने बदलावा दिए बयान

रायपुर/ जगदलपुर। कठुआ और उन्नाव में हुए रेप से पूरे देश में गुस्सा है वैसी ही एक घटना छत्तीसगढ़ के कांकेर जिले के कोयलीबेड़ा से निकलकर आई है, जहां खाकीवर्दी वाले ने एक नाबालिग आदिवासी किशोरी की इज्जत को तार-तार कर दिया। जी हां वो भी ऐसे वक्त जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने बस्तर प्रवास में आकर न्यू इंडिया की तस्वीर दिखाने वाले हैं।

जानकारी के अनुसार नक्सल प्रभावित गांव कोयलीबेड़ा के पनीडोबीर गांव में थानेदार ने ही नाबालिग का बलात्कार कर दिया। बता दें कि नक्सलियों के डर से घबराकर कांकेर जिले के ग्राम पनीडोबीर से एक आदिवासी परिवार ने कोयलीबेड़ा में कुछ माह पूर्व शरण ली थी। जिस घर में इस परिवार ने शरण ली थी उसी के निकट एक पूर्व आरक्षक रहता है। जिसके घर कोयलीबेड़ा के प्रभारी थानेदार का आना-जाना लगा रहता है।

दो माह पहले इस थानेदार ने नाबालिग लड़की से बलात्कार किया और घरवालों को डरा धमका कर नाबालिग से मनमानी करता रहा। लगातार अपमानित होने के बाद लड़की के परिवार ने आखिरकार 9 अप्रैल को पुलिस थाने में जाकर जब शिकायत करने पहुंचे तो थानेदार ने शिकायत दर्ज करने की बजाए लड़की के पिता को जमकर पीटा और उसे जान से मारने की धमकी दी। जिसके बाद बलात्कार और पिटाई की घटना की खबर कोयलीबेड़ा में फैल गई।

हैरानी की बात तो ये है कि उसी शाम को जिला पंचायत सदस्य, सरपंच, पंच की उपस्थिति में दर्जनों ग्रामीणों की बैठक हुई, जिसमें लड़की और पिता पर दबाव डालकर मूल बयान को ही बदल दिया गया। पीड़ित लड़की की थानेदार से अवैध संबंध की बात स्वीकार करवाई गई। अब हालत ये है कि नक्सलियों के डर से आदिवासी परिवार पनीडोबीर गांव छोड़कर कोयलीबेड़ा में रहने को मजबूर परिवार अब न्याय की बजाए अब पुलिस की दहशत में जीने विवश है।

हालांकि आम आदमी पार्टी के नेता डॉ संकेत ठाकुर, सोनी सोरी और संगठन मंत्री बस्तर ज़ोन कोमल हुपेंडी ने पीड़ित परिवार से मुलाकात की और पुरे प्रकरण की जानकारी लेकर दोषी पुलिस अधिकारी के साथ-साथ पीड़ित परिवार से बयान बदलवाने के अपराध में जिला पंचायत सदस्य, सरपंच आदि के गिरफ्तारी की मांग की है, पर सवाल ये भी है कि आखिरकार कानून के हाथ लंबे होने की बात सही है पर वे इतने लंबे तो नहीं हो सकते कि किसी की इज्जत को तार-तार कर सकें। फिलहाल इस घटना के बाद कोयलीबेड़ा क्षेत्र में तनाव बना हुआ है और आरोपी थानेदार अभी भी आजाद है।

Tags

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.