चोरों ने फिल्मी अंदाज में की एक बैंक में सेंधमार, ₹55 लाख लेकर फरार

बैंक का स्टाफ सोमवार की सुबह जब बैंक पहुंचा तो सबके होश उड़ गए

नई दिल्ली: दिल्ली के शाहदरा के विश्वास नगर के यूनियन बैंक में बदमाशों ने एक निर्माणाधीन इमारत की ओर से दाखिल होकर बैंक की दीवार को काट दिया और उसके बाद ₹55 लाख लेकर फरार हो गए.

बैंक का स्टाफ सोमवार की सुबह जब बैंक पहुंचा तो सबके होश उड़ गए. बैंक में चोरी हो चुकी थी. हालांकि दिल्ली पुलिस ने शाहदरा के यूनियन बैंक में हुई 55 लाख रुपये की लूट के मामले को सुलझा लिया है. दिल्ली पुलिस ने इस मामले में एक शख्स को गिरफ्तार भी किया है.

पुलिस अफसरों का कहना है कि चोरी किए गए 55 लाख रुपये भी बरामद कर लिए गए हैं. गौरतलब है कि यूनियन बैंक शाहदरा में सेंध लगाकर चोरों ने ₹55 लाख पर हाथ साफ कर दिया था. ये रुपये तिजोरी से चुराए गए थे. पुलिस इस मामले में बाकी आरोपियों की तलाश कर रही है.

इससे पहले बैंक के अंदर सनसनीखेज सेंधमारी की घटना मिलते ही मौका ए वारदात पर पुलिस के आला अधिकारी रवाना हो गए. शाहदरा के डीसीपी संजय सेन ने मौके का मुआयना किया. दिल्ली पुलिस के अलावा फॉरेंसिक और क्राइम ब्रांच की टीम ने भी मौका-ए-वारदात का मुआयना किया. फर्श बाजार थाना पुलिस ने बैंक अधिकारियों की शिकायत पर मामला दर्ज कर छानबीन शुरू की.

पुलिस अफसरों के मुताबिक इस वारदात को रविवार को अंजाम दिया गया जो कि सोमवार को करीब 10:30 बजे जब बैंक खुला तो देखा गया कि बैंक की तिजोरी को गैस कटर की मदद से काट दिया गया था. तिजोरी में रखे हुए 55 लाख रुपये गायब थे.

हैरानी की बात यह है कि चोरों ने लॉकर में रखे जेवरात तथा किसी और अन्य कागजात को नहीं छुआ. जांच के दौरान पुलिस को बैंक के अंदर लगे सीसीटीवी कैमरे भी बंद मिले हैं. इसी आधार पर पुलिस शक जता रही है कि उन्हें इस मामले में बैंक के किसी अधिकारी का हाथ शामिल है.

छानबीन में पुलिस को पता चला कि बैंक के ठीक बराबर वाली इमारत निर्माणाधीन है. इसी निर्माणाधीन इमारत को बदमाशों ने अपना हथियार बनाया. इस इमारत के गेट को तोड़कर बदमाश अंदर दाखिल हुए और वहां से बैंक के अंदर लूटपाट की.

बैंक के आसपास लगे सीसीटीवी कैमरों से पुलिस को कुछ सुराग मिले. शुरुआती जांच के बाद आशंका व्यक्त की जा रही थी कि बैंक से जुड़े किसी व्यक्ति का वारदात में हा‌थ हो सकता है. पुलिस सीडीआर की मदद से पूरे मामले की जांच में जुटी है.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button