छत्तीसगढ़

अच्छी पहल : दुर्घटना में घायल व्यक्ति के लिए मददगार साबित होगा ये आइस कार्ड…

ट्राफिक पुलिस और सुरक्षित भवः फाउंडेशन ने शुरू की मुहिम

रायपुर। सड़क हादसों में हो रही मौत की बढ़ते आंकड़ों को कम करने के लिए ट्राफिक पुलिस और सुरक्षित भवः फाउंडेशन संयुक्त रूप से वाहन चालकों को इन कैश ऑफ एमरजेंसी कार्ड का निःशुल्क वितरण करेगा। यह कार्ड हर रोड यूजर को ट्राफिक थाने में निःशुल्क मिलेगा । ये मुहिम इसलिए बेहतर साबित होगी क्योंकि इस आईस कार्ड के माध्यम से दुर्घटना में घायल व्यक्ति की पहचान आसानी से हो सकेगी और साथ ही दुर्घटना में घायल व्यक्ति के परिजनों तक पहुंचने में ये कार्ड मददगार साबित होगा।

ट्राफिक पुलिस के एडिशनल एसपी बलराम हिरवानी और सुरक्षित भवः फाउंडेशन के चेयरमैन संदीप धुप्पड़ ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि रायपुर शहर में ही 10 लाख कार्ड वितरण करने का लक्ष्य रखा गया है। जो रोड यूजर इस कार्ड को लेकर चलेंगे उनको फाउंडेशन की ओर से गिफ्ट भी दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि अक्सर किसी भी दुर्घटना की स्थिति में घायल व्यक्ति के परिवार तक पहुंचने में असमर्थ रहते हैं, क्योंकि घायल व्यक्ति कुछ बताने की स्थिति में नहीं रहते हैं। ऐसी स्थिति में आईस कार्ड उसकी जान बचाने में कारगर साबित होगा।

इस कार्ड में परिवार या दोस्तों के नंबर होने से हम उन्हें सूचित कर उन तक आसानी से पहुंच पाएंगे और घायल व्यक्ति को उसके सही समय पर उपचार उपलब्ध उपाय इस इस कार्ड के जरिए हम नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया द्वारा उपलब्ध कराए गए अपने नेशनल हाईवे के हेल्पलाइन नंबर 1033 की जानकारी भी इस कार्ड के माध्यम से दे रहे हैं।

जो कि किसी भी हाइवे में यात्रियों को उनके दुर्घटना की स्थिति में तत्काल मदद देने में सहायक होगा उन्होंने यह भी बताया कि बहुत जल्द छत्तीसगढ़ पुलिस द्वारा 100 नंबर के साथ साथ 112 भी शुरू किया जा रहा है जिसकी जानकारी इस आइस कार्ड में अंकित है।

साथी हमारी संस्था सुरक्षित भवन फाउंडेशन का हेल्पलाइन नंबर भी दर्शाया जाएगा इस वर्ष सड़क सुरक्षा सप्ताह के माध्यम से 5 शहरों में इस इस कार्ड का वितरण किया जाना है रायपुर शहर के अलावा भिलाई दुर्ग राजनांदगांव धमतरी एवं बिलासपुर शहर से एक साथ वितरण किया जाएगा।

उन्होंने बताया कि देश में प्रतिदिन 400 लोगों की मौत सड़क दुर्घटना में होती है। ट्रैफिक पुलिस के अनुसार साल 2015 में 808 सड़क दुर्घटना हुई इनमें 186 लोगों की मौत हो गई वही 517 लोग घायल हुए इसी प्रकार 2016 में 767 सड़क दुर्घटना हुई इनमें 154 लोगों ने अपनी जान गवाई वही 490 लोग बुरी तरह घायल हो गए 2017 में 574 घटना घटी इनमें 141 लोग असमय ही काल के गाल में समा गए थे।

वही परिवहन विभाग के आंकड़े बताते हैं कि प्रदेश भर में 14446 सड़क दुर्घटना हुई इनमें 4062 लोगों की मौत हो गई।

13426 लोग बुरी तरह से घायल हुए। इसी प्रकार साल 2016 में 1358 सड़क दुर्घटना इनमें से 3908 लोगों ने अपनी जाने गवाईं हैं। उन्होंने कहा कि आइस कार्ड के लागू होने से प्रदेश में सड़क दुर्घटना के आंकड़ों में कमी लाई जा सकती है।

advt

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.