बाघों को बचाने मोटर साइकिल यात्रा कर लोगों में जागरूकता पैदा कर रहा यह दंपति

अब तक 28 राज्य और 5 केंद्र शासित प्रदेश कवर

कोलकाता: कोलकाता के एक दंपति ने वन्यजीव के प्रति लोगों में जागरूकता को फैलाने का संकल्प लिया है। ये दंपति पूरे देश भर में घूम-घूमकर अपनी बाघों को बचाने के इस संकल्प को साकार कर रहे हैं।

चूंकि देश में विलुप्त होती बाघों की संख्या में यूं तो काफी सुधार आया है। लेकिन इससे इनकार नहीं किया जा सकता है कि यह ख’तरा आनेवाले समय में दोबारा पैदा नहीं होगा। इसलिए इस दंपति ने बाघ को बचाने के लिए लोगों में जागरूकता पैदा करने के संदर्भ में मोटरसाइकिल से देश के विभिन्न जगहों में यात्रा कर रहे हैं।

अपनी यात्रा के दौरान दंपति का काफिला उड़ीसा की राजधानी भुवनेश्वर पहुंच चुका है। मीडिया से बात करते हुए रथिन्द्र दास ने अपने इस मिशन की जानकारी दी है। उन्होंने कहा कि मैं और मेरी पत्नी गीतांजलि ने 15 फरवरी को कोलकाता से इस यात्रा की शुरुआत की। हमारे अभियान का नाम ‘जर्नी फॉर टाइगर’ है।

आगे उन्होंने कहा कि इस यात्रा में हम देश भर के विभिन्न बाघ अभयारण में जा रहे हैं। लोगों से बात कर वन्यजीवों की रक्षा के लिए उन्हें प्रेरित करने की कोशिश कर रहे हैं।

कोलकाता के इस दंपति ने अब तक 28 राज्यों और 5 केंद्र शासित प्रदेशों को कवर कर चुके हैं। उनका अगला डेस्टिनेशन मयूरभंज में स्थित सिमिलिपाल नेशनल पार्क है। वह जल्द ही इस क्षेत्र का दौरा करेंगे और अपने संकल्प के अगले पड़ाव में दस्तक देंगे।

Back to top button