इस लड़की को परंपरा के नाम पर 10 सालों तक परिवार ने लड़के वेश में रखा, पढ़िए पूरी खबर

परिवार में पांच बहनें पर भाई एक भी नहीं

काबुल: अफगानिस्तान की में सितारा वफादार नाम की लड़की को बाशा पोशी परंपरा का पालन कराने के नाम पर 10 सालों तक परिवार ने उसे लड़के के वेश में रखा. ऐसा इस लिए किया क्यों की सितारा के परिवार में उसकी पांच बहनें हैं लेकिन भाई एक भी नहीं. इस लिए परिवार वालो ने सितारा को लड़के की वेश-भूषा में रहने के लिए मजबूर किया.

सितारा ने बताया की उसके परिवार को ईंट भट्ठे में हफ्ते में छह दिन बंधुआ मजदूर के रूप में कार्य करते हैं, और परिवार का पेट भरते हैं. और बताया की मेरे पिता हमेशा कहते हैं कि सितारा मेरे बेटे की तरह है और कभी-कभी मैं उनके बडे़ बेटे का फर्ज निभाते हुए लोगों के अंतिम संस्कार में भी जाती हूं। बता दे अफगानिस्तान में प्रायः ऐसा देखा जाता है कि ज्यादातर लड़कियां तरूणायी शुरू होने पर लड़के की वेश-भूषा रखना बंद कर देती हैं। जबकि कुछ लड़कियां लड़कों की तरह ही आजाद रहने के लिए ऐसा करना जारी रखती हैं।

अफगानिस्तान की बाशा पोशी परंपरा का पालन कराया गया. इस परंपरा के तहत किसी लड़की को लड़के के वेश में रखा जाता है. जो पितृ प्रधान समाज वाले देश में परिवार में बेटी एक बेटे की भूमिका निभाती है।

Back to top button