ये है बिल गेट्स की योजना…सेक्स करते ही मर जाएंगे मलेरिया फैलाने वाले मच्छर

-आॅक्सिटिक लैब को 27 करोड़ का करेंगे दान

लंदन।

बिल गेट्स ने दुनिया को मलेरिया मुक्त करने का फैसला लिया है। इस समस्या से निजात दिलाने के लिए उन्होंने एक लैब को करीब 27 करोड़ रुपये का दान देने का मन बनाया है। इस लैब में ऐसी तकनीक पर काम हो रहा है, जिससे मलेरिया फैलाने वाले मच्छर खुद मर जाया करेंगे। तकनीक की मदद से मच्छर आपस में सेक्स करने के बाद अपने आप मर जाया करेंगे। बड़ी योजना के तहत गेट्स फाउंडेशन ने मलेरिया को पूरी तरह खत्म करने का फैसला किया है।

हर साल मरते हैं दस लाख के करीब

दुनिया भर में हर साल करीब 10 लाख से ज्यादा लोग मलेरिया से मरते हैं। मलेरिया के मच्छर को दुनिया में किसी भी जानवर से ज्यादा खतरनाक माना जाता है। मलेरिया के ज्यादातर मामले अफ्रीका के हैं। यहां सबसे अधिक बच्चे शिकार होते हैं। हर साल करीब 60 करोड़ लोग इस बीमारी का शिकार होते हैं। इस तकनीक में आनुवांशिक रूप से संशोधित पुरुष मच्छरों को एक सीमित जीन के साथ छोड़ा जाएगा। वे मादा मच्छरों के साथ सेक्स करेंगे, मादा मच्छरों के काटने से ही मलेरिया फैलता है।

सीमित समय मर जाते हैं मच्छर

अनुवांशिक रूप से संशोधित मच्छरों से सेक्स के दौरान सीमित जीन उनके अंदर प्रवेश करेगा। इसके बाद पैदा हुए मच्छर एक सीमित समय के बाद मर जाएंगे। जो मच्छर मलेरिया फैलाते हैं,वे सीमित समय में मर जाएंगे। अमरीका की आॅक्सिटिक नाम की कंपनी अनुवांशिक रूप से संशोधित मच्छरों को तैयार करेगी।

इन्हें फ्रेंडली मॉस्किटो के नाम से पुकारा जाएगा। ये मच्छर 2020 तक तैयार हो जाएंगे। आॅक्सिटिक के चीफ एग्जिक्युटिव ग्रे फ्रेंडसेन ने उनकी कंपनी को दान देने के लिए गेट्स फाउंडेशन का आभार जताया है, ताकि वे मलेरिया के खिलाफ अपनी लड़ाई की शुरुआत कर सकें।

Back to top button