छत्तीसगढ़

इस महिला ने गहने बेचकर 25 सौ पौधोें को सूखने से बचाया

-अमृत लाल साहू

भाटापारा।

ग्राम दरचुरा की रहने वाली महिला ने पौधे लगाने की लगन लगा रखी है। अब तक 2500 पौधे लगा चुके है। सुरक्षा के लिए शासन ने सहयोग नहीं की तो गहने तक बेच डाली।

जब खुद पर विश्वास और मन में दृण संकल्प हो तो कोई कार्य असंभव नहीं इसका उदाहरण बनी है सिमगा ब्लाक के ग्राम दरचुरा में रहने वाली यशोमती साहू, यशोमती साहू दो बच्चों की मां व पतिवत्रा है।

घर की जिम्मेदारी के साथ जिन्होंने समाज व पर्यावरण रक्षा की जिम्मेदारी भी निभा रही है। यशोमति ने गांव के तालाब पार पर कुछ वर्ष पहले 2500 पौधा रोपण की और उनके रक्षा के लिए अपना पैसा भी लगाने लगी, जब आर्थिक स्थिति ढगमगाने लगी तो शासन व जनप्रतिनिधियों के पास गुहार लगाई, लेकिन कही से किसी भी प्रकार की सहायता नहीं मिली।

पौधे गर्मी के दिनों में सूखने लगे,तो यशोमति ने अपने सोने की अंगूठी बेच दी। तालाब से पानी खिंचकर पौधों को सिंचने के लिए टियूब बेल मशीन व पाईप खरीदी।

अब यशोमति के पास टियूब बेल मशीन को चालू करने के लिए बिजली की समस्या सामने आ गई, तो शासन व जनप्रतिनिधियों से फिर गुहार लगाई, लेकिन इनके कान में जूं तक नहीं रेंगी।

पौधों की स्थिति को देखते हुए यशोमति ने फिर अपने सोने के जेवर बेच दी और बिजली की समस्या को दुर की कुछ वर्षों में पौधे आज वृक्ष का रूप लेकर लहलाहा रहे है।

ब्लाक कांगेस प्रदेश कमेटी के सदस्य सतीष अग्रवाल तथा ग्राम दरचुरा के अन्य महिलाओ ने यशोमती के कार्य को रूकने नही देने की बात कहते हुए 400 पौधे तालाब के किनारे लगाते हुए साथ चलने की बात कही। वहीं अग्रवाल ने कहा की पौधों के सुरक्षा के लिए यशोमती जिस तरह की सहयोग चाहेगी उसे मेरे द्वारा दिया जाएगा।

Summary
Review Date
Reviewed Item
इस महिला ने गहने बेचकर 25 सौ पौधोें को सूखने से बचाया
Author Rating
51star1star1star1star1star
Tags