अंतर्राष्ट्रीय बायोएथिक्स विषय पर शिक्षकों को मिला ये मन्त्र,पढ़े पूरी खबर

आयुष विवि के तीन दिवसीय कार्यशाला का हुआ समापन

रायपुर:पं. दीनदयाल उपाध्याय स्मृति स्वास्थ्य विज्ञान एवं आयुष विश्वविद्यालय रायपुर के संयुक्त तत्वाधान में इंटरनेशनल नेटवर्क ऑफ़ यूनेस्को चेयर इन बायोएथिक्स (हाइफा) के सहयोग से तीन दिवसीय अंर्तराष्ट्रीय बायोएथिक्स विषय पर प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन राजधानी के एक निजी होटल किया गया।कार्यक्रम में विश्वविद्यालय अंतर्गत विभिन्न महाविद्यालयों के शिक्षकों अंर्तराष्ट्रीय बायोएथिक्स विषय पर टिप्स दिए गए.

28 से 30 मई तक आयोजित इस कार्यक्रम के शुभारंभ समारोह के मुख्य अतिथि डॉ. वेदप्रकाश मिश्रा कुलाधिपति कृष्णा इंस्टीट्यूट ऑफ़ मेडिकल साइंसेस कराड (महाराष्ट्र) थे. अध्यक्षता विष्वविद्यालय के कुलपति एवं आयोजन समिति के अध्यक्ष डॉ. जी.बी. गुप्ता ने की।

कार्यक्रम में प्रदेश के वरिष्ठ चिकित्साविद् डॉ. एस.आर. गुप्ता, डॉ. व्ही.आर. राजेन्द्रन, कुलपति सालेम विश्वविद्यालय, कर्नाटक, भारतीय दन्त चिकित्सा परिषद के सदस्य डॉ. अस्मिता सिंह गुप्ता, डॉ. रसेल डिसूजा सहित प्रदेश के गणमान्य चिकित्सकगण, संबद्ध महाविद्यालयों के डीन एवं प्राचार्य तथा प्रशिक्षणार्थी उपस्थित थे।

कार्यक्रम का आभार प्रदर्शन आयोजन समिति के संयोजक एवं कुलसचिव डॉ. एस.के. जाधव एवं संचालन आयोजन समिति सचिव डॉ. नवीन गुप्ता ने किया। इस अवसर पर विश्वविद्यालय में यूनेस्को चेयर इन बायोएथिक्स (हाइफा) के नोडल सेन्टर का विधिवत शुभारंभ किया गया. इस सेन्टर के अंतर्गत नौ सदस्यीय बायोएथिक्स स्टीरिंग कमेटी का गठन किया गया है।

समारोह में उपस्थित अतिथियों ने अपने संबोधन में वर्तमान भारतीय परिवेश में चिकित्सा व्यवसाय में आवश्यक नैतिक मूल्यों, चिकित्सा विधिक महत्व तथा चिकित्सक-रोगी परस्पर विष्वासपूर्ण संबंधों के आवश्यकता पर बल देते हुए इस प्रषिक्षण की आवश्यकता और अनिवार्यता पर प्रकाश डाला।

वक्ताओं ने यह भी विचार व्यक्त किया की समस्त चिकित्सा पाठ्यक्रमों में बायोएथिक्स विषय को शमिल किया जाना आज की आवश्यकता है।तीन दिवसीय प्रषिक्षण कार्यक्रम के अंतर्गत विभिन्न सत्रों में मानवाधिकार और बायोएथिक्स के वैष्विक घोषणा के 15 सिद्धांतों पर विषय विषेशज्ञों डॉ. रसेल डिसूजा, डॉ. मेरी मैथ्यू, डॉ. डेरिक डिसूजा, डॉ. संतोष सलागरे एवं डॉ. प्रिंसी पलाटी द्वारा प्रषिक्षणार्थियों को व्याख्यान एवं विभिन्न विधियों द्वारा प्रषिक्षण दिया गया।

तीन दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम के समापन समारोह के मुख्य अतिथि डॉ. एस. गीतालक्ष्मी कुलपति एम.जी.आर. मेडिकल यूनिवर्सिटी तमिलनाडू थी. अध्यक्षता विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. जी.बी. गुप्ता ने की, विषिष्ट अतिथि डॉ. शैलेन्द्र सराफ, कुलपति दुर्ग विष्वविद्यालय, दुर्ग एवं कुलाधिपति एवं राज्यपाल के प्रमुख सचिव सुरेन्द्र कुमार जायसवाल थे।

इस अवसर पर अतिथियों ने विश्वास व्यक्त किया की यह प्रशिक्षण कार्यक्रम राज्य के विभिन्न पद्धतियों के चिकित्सा महाविद्यालयों के शिक्षकों एवं छात्रों के लिये अत्यंत लाभदायक सिद्ध होंगे कार्यक्रम के पश्चात् अतिथियों द्वारा प्रशिक्षणार्थियों को प्रमाण पत्र प्रदान किया गया। कार्यक्रम का आभार प्रदर्शन कुलसचिव डॉ. एस.के. जाधव ने तथा प्रभावशाली संचालन आयोजन समिति के सचिव डॉ. नवीन गुप्ता ने किया।

new jindal advt tree advt
Back to top button