राष्ट्रीय

130 बीवियों का अकेला पति था ये मौलवी, मौत के बाद भी पैदा हो रहे थे बच्चे..

मोहम्मद बेल्लो अबूबकर की मौत

आज हम आपको एक ऐसे शक्श के बारे में बताने वाले है जिसकी 130 और बच्चे 203 है जी हाँ एक गांव की जनसँख्या वाले परिवार बसाने वाला शख्स नाइजीरिया के रहने वाले मोहम्मद बेल्लो अबूबकर है जिनकी मौत साल 2017 में हुई थी पर वो एक बार फिर से सुर्ख़ियो में आए है कोरोना और लॉक डाउन को देखते हुए एक्सपर्ट्स का ये कहना था की जल्द ही दुनिया में एक बड़ा जनसंख्या विस्फोट हो सकता है और ऐसे में 130 बीवियों वाले ये मोहम्मद बेल्लो अबूबकर का नाम लोगों को याद आ गए।

मोहम्मद बेल्लो अबूबकर की मौत के बाद भी उनके कुछ बच्चे हुए और उसकी वजह ये थी के मौत के समय उनकी कई बीवियां गर्भवती थी और वो अपने परिवार के साथ तीन मंजिला एक मकान में रहता था और सबसे बड़ी हैरान करने वाली तो ये है की 130 बीविया होने के बाद भी इनके बीच कभी कोई लड़ाई नहीं होती थी।

ये सभी शांति से और मिलझुल कर रहते थे। आपको बता दे की मोहम्मद बेल्लो अबूबकर का निधन अचानक हुआ था और मरने के पहले उन्होंने अपने पूरे परिवार को बुला बातचीत भी की थी उनकी अंतिम यात्रा में कई लोग शामिल भी हुए थे और उनके जाने के बाद कई बीवियों ने आंसू बहाए थे।वैसे जब वो जिंदा थे तो उन्हें कई विरोध का सामना करना पड़ा था लोगो ने कहा की उन्हें पनी चार बीवियों को छोड़ बाकी सभी को तलाक दे देना चाहिए।

हालांकि उन्होंने ऐसा करने से इंकार कर दिया उनके अनुसार ये शादियां शुद्ध है वैसे अपनी 130 बीवियों में से 10 के साथ उसका तलाक भी हो गया था मीडिया से बता करते हुए उन्होंने कहा की वह स्वयं शादी नहीं करना चाहता है लेकिन उसकी शादियां अपने आप होती चली जाती है,उन्होंने कहा की “आमतौर पर लोग 10 बीवियों से ही परेशान हो जाते हैं मुझे 130 बीवियां संभालने के काबिल समझता है,

इसलिए उसने मेरी किस्मत में यह लिखा। इसके साथ ही जब उन औरतो से पूछा गया तो उन्होंने कहा की अबूबकर से शादी कर अपने आपको भाग्यशाली मानती है उनका लहना था की अबूबकर में एक चमत्कारी बात थी। आप उनसे शादी करने से इंकार नहीं कर सकते हैं वैसे अब वो इस दुनिया में नहीं है पर उनका कुछ परिवार अभी भी उसी घर में रहता है।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button