यह शख्स सिर्फ 5,000 रुपए में किसी को भी बनवा देता था भारतीय

गाजियाबाद। कविनगर पुलिस ने गाजियाबाद में लंबे समय से अवैध रूप से रह रहे तीन बांग्लादेशियों को गिरफ्तार किया। उनके पास से भारत की नागरिकता से जुड़े कई दस्तावेज बरामद हुए हैं, जिन्हें गलत तरीके से बनवाया गया था। एक आरोपित ने तो बिसरख में घर भी बनवा लिया है। वह केवल पांच हजार रुपये लेकर बांग्लादेश से अवैध ढंग से आए लोगों के डॉक्युमेंट तैयार कर उन्हें भारतीय नागरिक बनवा देता था। अपने पते पर वह 50-60 लोगों के डॉक्युमेंट बनवा चुका है।

कविनगर थाना प्रभारी प्रदीप त्रिपाठी ने बताया कि मंगलवार सुबह तीन लोग आरटीओ के पास खड़े होकर बात कर रहे थे। वहीं पुलिस का एक मुखबिर भी मौजूद था। उसे उन लोगों की बातों से शक हुआ। उसकी जानकारी के आधार पर पुलिस ने तुरंत छापा मारकर तीनों को दबोच लिया। पूछताछ में पता चला कि तीनों बांग्लादेशी हैं और लंबे समय से गाजियाबाद में रह रहे हैं। वे लोग पश्चिम बंगाल के रास्ते भारत में दाखिल हुए थे। बंगाल में उन्होंने पढ़ाई से जुड़े दस्तावेज तैयार कराए और फिर उनके आधार पर जिले में अन्य कागजात बनवा लिए।

गिरफ्तार बांग्लादेशियों के नाम आलम शेख, नजरुल इस्लाम और इमाम हुसैन हैं। उनके पास से पासपोर्ट, आधार कार्ड, पैन कार्ड समेत अन्य डॉक्युमेंट मिले हैं। थाना प्रभारी ने बताया कि नजरुल के कुछ रिश्तेदार लूट और डकैती की मामले में जेल में बंद हैं। इस मामले में एलआईयू, क्राइम ब्रांच और आईबी ने भी पूछताछ की है।

खड़ा कर लिया प्रॉपर्टी का कारोबार
पुलिस के अनुसार, आलम शेख इंदिरापुरम की आम्रपाली सोसायटी में रहता है। उसके पास से कर्नाटक के पते का आईडी कार्ड भी मिला है। उसने बताया कि वह करीब 17 साल से भारत में है। इस समय वह प्रॉपर्टी का कारोबार कर रहा था। वहीं, नजरुल ने बिसरख में घर बनवा लिया है। वह बांग्लादेश से आए लोगों को अपना रिश्तेदार बता उनके फर्जी दस्तावेज तैयार कराता था। इमाम हुसैन फिलहाल नजरुल के ही साथ रह रहा था।
<>

advt
Back to top button