मनोरंजन

सुशांत और सैमुअल के बीच हुए चैट से सामने आई यह सच्चाई

रात के 2 बजे सुशांत के घर से निकाले गए सैमुअल

मुंबई: बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत के आत्महत्या मामले में एनसीबी ने ड्रग केस में रिया चक्रवर्ती और शौविक चक्रवर्ती को गिरफ्तार कर लिया है, वहीं अब सीबीआई की शक की सूई सुशांत के दोस्‍त सैमुअल हाओकिप की ओर घूमी है। समझा जा रहा है कि सैमुअल सुशांत को ब्‍लैकमेल कर रहे थे! यह बात सुशांत और सैमुअल के बीच हुए चैट से सामने आई है।

सीबीआई की जांच में पता चला है कि सुशांत की जिंदगी में सैमुअल हाओक‍िप की एंट्री दोस्‍त और लीगल एडवाइजर के तौर पर हुई थी। सैमुअल कानून के जानकार हैं। सुशांत के फार्महाउस का कॉन्‍ट्रैक्‍ट भी सैमुअल ने ही तैयार किया था।

लेकिन समझा जाता है कि सुशांत और सैमुअल के बीच रिश्‍ते खराब हो गए थे। यही कारण है कि 2019 में ही आधी रात को करीब 2 बजे सैमुअल को सशांत के घर से जाना पड़ा था। यही नहीं, बताया जाता है कि सुशांत ने एक बार सैमुअल का फोन भी अपने कब्‍जे में ले लिया था।

फोन में मिले हैं कई मेसेज

सीबीआई सुशांत मामले में सैमुअल हाओकिप से लगातार पूछताछ कर रही है। उसके और सुशांत के फोन में कई ऐसे चैट मेसेज मिले हैं, जिससे ब्‍लैमेलिंग के आसार बनते हैं। हालांकि, ये मेसेज क्‍या हैं इसको लेकर जांच एजेंसी ने कोई खुलासा नहीं किया है।

11 और 12 जून को सुशांत ने दीपेश से जताई थी चिंता

हमारे सहयोगी टाइम्‍स नाउ की रिपोर्ट के मुताबिक, सुशांत ने मौत से तीन दिन पहले की 11 और 12 जून को अपने स्‍टाफ दीपेश सावंत से कहा था कि वह फार्महाउस का कॉन्‍ट्रैक्‍ट खत्‍म करे। वहां मौजूद फर्नीचर बेच दे और फार्महाउस पर मौजूद तीनों कुत्तों को अडॉप्‍शन सेंटर भेज दे। सुशांत ने ऐसा इसलिए किया, क्‍योंकि उन्‍हें ऐसा लग रहा था कि फार्महाउस के नाम पर सैमुअल ने उन्‍हें धोखा दिया है।

सुशांत से कहा था दो साल के हैं 26 लाख

सैमुअल ने जब पहली बार फार्महाउस का कॉन्‍ट्रैक्‍ट बनाया, तब सुशांत से कहा गया कि दो साल के 26 लाख रुपये लगेंगे। कॉन्‍ट्रैक्‍ट तैयार हुआ। लेकिन एक साल बाद ही सुशांत ने स्‍टाफ ने उन्‍हें बताया कि कॉन्‍ट्रैक्‍ट खत्‍म हो रहा है और वो 26 लाख रुपये एक साल के लिए थे। सुशांत इस बात से परेशान हो गए। 9 जून को सुशांत अपनी एक्‍स मैनेजर दिशा सालियन की मौत के कारण परेशान थे, जिसके बाद 11 और 12 जून को वह फार्महाउस के कारण चिंता में थे।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button