छत्तीसगढ़

हजारों कर्मचारियों ने उपवास में रहकर मांगा पुरानी पेंशन

उपवास के साथ ट्वीटर, फेसबुक में पोस्ट कर चलाया पेंशन बहाली का अभियान

ब्युरो चीफ : विपुल मिश्रा

  • पुरानी पेंशन के लिए आने वाला समय है महत्त्वपूर्ण
  • हमारा मिशन – पुरानी पेंशन, एक नेशन – पुरानी पेंशन मांग के साथ रखे उपवास

राष्ट्रीय पुरानी पेंशन बहाली संयुक्त मोर्चा छत्तीसगढ़ के प्रदेश संयोजक संजय शर्मा, प्रदेश सह संयोजक सुधीर प्रधान, वाजीद खान, हरेंद्र सिंह, देवनाथ साहू, बसंत चतुर्वेदी, प्रवीण श्रीवास्तव, विनोद गुप्ता, मनोज सनाढ्य, शैलेन्द्र पारीक ने कहा है कि 13 सितंबर को छत्तीसगढ़ के एन पी एस कर्मचारियों व शिक्षकों ने पुरानी पेंशन बहाली की मांग को लेकर हजारों कर्मचारियों ने उपवास में रहकर पुरानी पेंशन की मांग की।

13 सितंबर को शाम 3 बजे से 6 बजे के बीच पुरानी पेंशन की मांगो का ट्वीटर, फेसबुक में पोस्ट कर PMOIndia ChhattisgarhCMO को #FAST4OPS टैग कर हजारों कर्मचारियों ने पुरानी पेंशन की मांग का अभियान चलाया।

यह भी पढ़ें :- वास्तविक नियंत्रण रेखा पर युद्ध जैसे हालात, भारत और चीन ने बॉर्डर पर जमा किए आधुनिक टैंक्स और हथियार

प्रदेश संयोजक संजय शर्मा ने कहा कि आने वाला समय पुरानी पेंशन के लिए महत्त्वपूर्ण है, एनपीएस कर्मचारी 13 सितंबर को पारिवारिक उपवास रखकर हमारा मिशन – पुरानी पेंशन, एक नेशन – पुरानी पेंशन, की मांग किए।

ज्ञात हो कि राष्ट्रीय पुरानी पेंशन बहाली संयुक्त मोर्चा के आह्वान पर छत्तीसगढ़ में सभी विभाग के एन पी एस कर्मचारी व शिक्षा विभाग के संकुल से लेकर प्रदेश स्तर के पदाधिकारियों ने उपवास रखते हुए ट्वीटर व फेसबुक अभियान में बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया।

ट्वीटर पर #FAST4OPS नाम से चलाये जा रहे मुहिम के समर्थन में दिनांक 13 सितंबर, 2020 को दोपहर 3 बजे से शाम 6 बजे तक इस ट्वीटर अभियान का भी हिस्सा बनते हुए, प्रधानमंत्री व मुख्यमंत्री को टैग लाइन लिखकर पुरानी पेंशन बहाली का मांग किए जिसमे समस्त विभाग के कर्मचारी, शिक्षक, लिपिक, स्वास्थ्य कर्मचारी, अधिकारी, रेलवे कर्मी, पुलिस कर्मी, बैंक कर्मी, पैरा मिलिट्री के जवानों ने बुढ़ापे का सहारा पुरानी पेंशन बहाल कीजिए का संदेश दिया।

देश में 60 लाख व छत्तीसगढ़ में 3.50 लाख कर्मचारियो के लिए पुरानी पेंशन बहाली हेतु राष्ट्रीय अध्यक्ष बी पी रावत जी व छत्तीसगढ़ प्रदेश संयोजक संजय शर्मा व वीरेंद्र दुबे की संयुक्त भूमिका में संघर्ष जारी है।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button