साढ़े तीन साल बाद बीएमओ डॉ.प्रमोद तिवारी बहाल

बिलासपुर।

नसबंदी कांड के बाद निलंबित किए गए तखतपुर बीएमओ डॉक्टर प्रमोद तिवारी को बहाल कर दिया गया है। बहाली के बाद प्रमोद तिवारी की पोस्टिंग बलरामपुर जिला अस्पताल में की गई है। हाईकोर्ट ने डॉक्टर तिवारी के निलंबन को समाप्त कर सरकार को बहाली का आदेश दिया था।

बता दें कि नवंबर 2014 को तखतपुर के पेंडारी में नसबंदी ऑपरेशन के बाद कई महिलाओं की मौत हो गई थी। जिसके बाद बीएमओ डॉ प्रमोद तिवारी को राज्य सरकार ने निलंबित कर दिया था। सरकार की कार्रवाई को डॉक्टर तिवारी ने हाईकोर्ट में चुनौती दी थी।

सुनवाई के बाद हाईकोर्ट ने डॉक्टर तिवारी के निलंबन को समाप्त कर सरकार को बहाली का आदेश दिया था। हाईकोर्ट के आदेश का पालन करते हुए सरकार ने डॉ प्रमोद तिवारी का निलंबन समाप्त करते हुए उन्हें बहाल कर दिया है।

बता दें कि पेंड्रा के गौरेला में हुए नसबंदी शिविर और गनियारी के निजी क्लीनिक के साथ-साथ प्रदेश के कई अस्पतालों में भी अमानक दवा के इस्तेमाल से कई महिलाओं की मौत हुई थी। इस बड़े हादसे के फौरन बाद डॉक्टर प्रमोद तिवारी को निलंबित कर दिया गया था।

बाद में हुई जांच में दवा में जहर पाया गया था। डॉक्टर तिवारी ने खुद पर हुई कार्रवाई को हाईकोर्ट में चुनौती दी थी।

Back to top button