राष्ट्रीय

संसद में तीन तलाक विधेयक को नहीं मिली मंजूरी, भाजपा ने कांग्रेस, राहुल को बताया जिम्मेदार

कांग्रेस ने उसका पारित होना बाधित किया।

नई दिल्ली: मानसून सत्र का आखरी दिन और संसद में तीन तलाक विधेयक को नहीं मिली मंजूरी. इस बिल के पास नहीं होने पर भाजपा ने कांग्रेस, राहुल गाँधी को जिम्मेदार बताया और कहा कि उनकी पार्टी ने उसका लोकसभा में समर्थन किया लेकिन वोट बैंक की राजनीति के चलते राज्यसभा में नहीं किया।

संसदीय मामलों के मंत्री अनंत कुमार ने कहा कि सरकार ने आखिरी पल तक यह सुनिश्वित करने का प्रयास किया कि विधेयक पारित हो जाए लेकिन कांग्रेस ने उसका पारित होना बाधित किया। उन्होंने संवाददाताओं से कहा, ‘‘लैंगिक न्याय सुनिश्वित करने वाले तीन तलाक विधेयक को दुर्भाग्य से कांग्रेस और उसके अध्यक्ष राहुल गांधी ने पारित नहीं होने दिया।’’

उन्होंने कहा कि मोदी सरकार मुस्लिम महिलाओं के कल्याण के लिए प्रतिबद्ध है। केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि कांग्रेस आज बेनकाब हो गई है, पार्टी केवल इस महत्वपूर्ण विधेयक का पारित होना बाधित करना चाहती थी।

उन्होंने कहा, ‘‘यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण और दुखद है कि उच्चतम न्यायालय के फैसले के बाद 300 से अधिक महिलाओं को तलाक दिया गया है और यह विधेयक बहुत महत्वपूर्ण था लेकिन विपक्ष की कुछ अन्य प्राथमिकताएं हैं।’’

Back to top button