बिहार

गाय का पेट साफ करने के लिए तीन घंटे चला ऑपरेशन, निकला 80 किलो पॉलीथिन

गाय के मालिक का कहना है कि गाय पिछले कुछ दिनों से ठीक से खा नहीं रही थी

गाय का पेट साफ करने के लिए तीन घंटे चला ऑपरेशन, निकला 80 किलो पॉलीथिन

बिहार की राजधानी पटना स्थित बिहार वेटरीनरी कॉलेज के डॉक्टरों ने एक गाय का ऑपरेशन कर उसके पेट से करीब 80 किलो पॉलीथिन निकाला है। सर्जरी एंड रेडियोलॉजी डिपार्टमेंट के असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ. जीडी सिंह की अगुवाई में डॉक्टरों की एक टीम ने बुधवार (14 फरवरी) को छह साल की गाय की तीन घंटे तक सर्जरी कर उसके पेट के चारों कम्पार्टपेंन्ट को साफ किया। डॉक्टरों के मुताबिक गाय के पेट में चार माइक्रोन्स से नीचे के पॉलीथिन चिपके पड़े थे।
[responsivevoice_button voice=”Hindi Female” buttontext=”अगर आप पढ़ना नहीं
चाहते तो क्लिक करे और सुने”]
डॉ. सिंह ने कहा कि उनके करियर के 13 वर्षों में यह पहला केस है जब किसी गाय के पेट से 80 किलो पॉलीथिन निकाला गया हो। डॉक्टरों के मुताबिक अब गाय स्वस्थ है लेकिन डॉक्टरों की निगरानी में है। उसे पूरी तरह से ठीक होने में करीब 10 दिन और लगेंगे। डॉ. सिंह के मुताबिक लोगों को पॉलीथिन के प्रति जागरूक किया जाना चाहिए साथ ही इसकी बिक्री पर प्रभावी रूप से बंदी लागू होनी चाहिए।

गाय के मालिक का कहना है कि गाय पिछले कुछ दिनों से ठीक से खा नहीं रही थी। इस वजह से उसे खुला छोड़ दिया गया था ताकि वो घूम-फिर सके। लेकिन इसके थोड़े ही दिन बाद गाय ने एकदम खाना बंद कर दिया तब डॉक्टरों से इलाज के लिए संपर्क किया। संपर्क करने पर डॉक्टरों ने उसकी छानबीन और जांच की। जांच में पता चला कि गाय के पेट में पॉलीथिन जमा हो चुका है जिससे वह खा-पी नहीं सकती है और उसके स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव पड़ रहा है। तब डॉक्टरों ने गाय की सर्जरी करने की सलाह दी थी।

बता दें कि गोरक्षक गोहत्या के खिलाफ अभियान तो चलाते हैं लेकिन गायों को पॉलीथिन से बचाने के लिए कोई खास अभियान नहीं चलाते हैं। नतीजतन सड़कों पर घूमने वाले मवेशी अक्सर पॉलीथिन खाते हैं जिससे उनकी मौत तक हो जाती है। हाल ही में केंद्रीय पर्यावरण मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने प्लास्टिक के प्रदूषण की रोकथाम के लिए जन जागरूकता अभियान चलाने पर जोर दिया है। दरअसल, इस साल संयुक्त राष्ट्र ने विश्व पर्यावरण दिवस मनाने की जिम्मेदारी भारत को सौंपी है।

Tags
advt

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.