तीन नक्सलियों ने किया आत्मसमर्पण

नारायणपुर : नारायणपुर जिले में शुक्रवार को जिला पुलिस अधीक्षक के समक्ष तीन नक्सलियों ने आत्मसर्पण किया। तीनों ने बिना हथियारों के आत्मसमर्पण किया।

शुक्रवार को जिला पुलिस अधीक्षक संतोष सिंह के समक्ष, बालमति कोर्राम (40) निवासी ग्राम बेचा थाना छोटेडोंगर जिला नारायणपुर (कुवांनार एरिया जनताना सरकार उपाध्यक्ष/स्कूल प्रभारी), सुदोर वट्टी (30) निवासी करलाभाटपारा मंदोड़ा थाना छोटेडोंगर जिला नारायणपुर (मंदोड़ा जनताना सरकार सदस्य) और सोमारू कावडे उर्फ संजेश (22) ग्राम हितावाड़ा थाना ओरछा जिला नारायणपुर (कोलोकाल पंचायत मिलिशिया, डिप्टी कमाण्डर) ने आत्मसमर्पण किया।

सक्रियता और कार्यक्षेत्र :
बालमति कोर्राम को वर्ष 2006 में नक्सली कमाण्डर रामू की ओर से बेचा जनताना सरकार में शामिल किया गया। बेचा जनताना सरकार का उपाध्यक्ष बनाया गया। वर्ष 2009 में नक्सली कमाण्डर नीति उर्फ उर्मिला की ओर से एरिया कमेटी सदस्य बनाकर 7 दिन का प्रशिक्षण देने के बाद जनताना सरकार स्कूल प्रभारी की जिम्मेदारी भी दी गई जो अपने पास देशी कट्टा रखती थी।

सुदोर वट्टी को वर्ष 2012-13 में सुरेश निवासी छिनारी एरिया कमाण्डर और मंदेर जनताना सरकार अध्यक्ष की ओर से संगठन में शामिल कर मंदोड़ा जनताना सरकार सदस्य में शामिल किया गया था, तब से जनताना सरकार सदस्य के पद पर सक्रिय रूप से कार्य कर रहा था। संगठन में रहकर लोगों को मीटिंग के लिए एकत्र करना, भोजन व्यवस्था, नक्सलियों का सहयोग करता था।

सोमारू कावडे उर्फ संजेश को वर्ष 2010 में हान्दावाड़ा एलओएस कमाण्डर, मंगली पोडियामी एसीएम निवासी जाड़का और महरू कोलोकाल जनताना सरकार अध्यक्ष की ओर से गांव में मीटिंग लेकर कोलोकाल जनताना सरकार सदस्य के रूप में भरमार बंदूक देकर समस्त जिम्मेदारी सौप कर शामिल किया गया।

प्रमुख घटनाओं में संलिप्तता :
आत्मसमर्पित नक्सली बालमति कोर्राम वर्ष 2008 को चिहरा जंगल (थाना छोटेडोंगर) में पुलिस पार्टी पर हमला। वर्ष 2008 को कौशलनार हाथीबेड़ा में पुलिस पार्टी पर फायरिंग। वर्ष 2009 को बेचा और कलेपाल के मध्य जंगल में पुलिस पार्टी पर फायरिंग। वर्ष 2016 में ग्राम टेटम पुलिस पार्टी पर हमला करने की घटना में शामिल रही है। आत्मसमर्पित नक्सली बालमति कोर्राम के विरूद्ध पुलिस अधीक्षक नारायणपुर की ओर से 2 हजार रुपए घोषित है।</>

Back to top button