छत्तीसगढ़

पेंड्रा में त्रिस्तरीय पंचायत सम्मेलन संपन्न : घोषणाओं की लगी झड़ी

त्रिस्तरीय पंचायत राज सम्मेलन का आयोजन जिला गौरेला पेंड्रा मरवाही में किया गया।

रिपोर्टर:-रितेश गुप्ता
पेण्ड्रा : भारतीय लोकतंत्र में पंचायती राज व्यवस्था को प्रमुख आधार स्तम्भ माना गया है। जिला, जनपद व ग्राम पंचायत इस त्रिस्तरीय पंचायत के माध्यम से सरकार के हर योजनाओं का क्रियान्वन होता है। जब तक इन तीनो में समन्वय न हो किसी राज्य अथवा ग्राम का विकास सम्भव नहीं होगा। सम्भवतः इसी उद्देश्य को लेकर छत्तीसगढ़ की कांग्रेस सरकार भी इस त्रिस्तरीय पंचायत राज सम्मेलन का आयोजन जिला गौरेला पेंड्रा मरवाही में किया गया।

पेण्ड्रा में आयोजित इस कार्यक्रम छत्तीसगढ़ के राजकीय गीत ‘अरपा पैरी की धार’ की धुन के साथ शुरू हुआ। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए  मंत्री जयसिंह अग्रवाल ने कहा कि मरवाही विधानसभा में 100 करोड़ से अधिक विकास कार्यों की निविदाएं लग गई हैं।

उन्होंने कहा कि पंचायत प्रतिनिधियों के सभी मांगो का समर्थन करते हुए मुख्य मंत्री भूपेश बघेल तक ले जाने की बात कही। उन्होंने चाय चौपाल को सफल बताते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ में यह अब तक का अपने तरह का पहला सफल कार्यक्रम था। उन्होंने कहा कि जो आवेदन अभी भी आएंगे उनका भी निराकरण किया जाएगा । उन्होंने कहा कि हम लोग राजनीति नहीं अपितु जनसेवा कर रहे हैं।

जयसिंह अग्रवाल ने गौरेला के कोरजा ग्राम पंचायत के आश्रित ग्राम बालधार को नया राजस्व ग्राम बनाने की घोषणा की।

वहीं प्रेम साय टेकाम ने कहा कि शिक्षा के क्षेत्र में इस जिले में कोई कमी नहीं होगी। यहाँ के शिक्षा को हम लोग नई ऊंचाइयों तक ले जाएंगे। मंत्री प्रेमसाय सिंह ने बरौर मरवाही, बंसीताल, गिरवर, खोडरी में संचालित छात्रावासों में अतिरिक्त कमरे की स्वीकृत दी।

कार्यक्रम में जिले के प्रभारी मंत्री जयसिंह अग्रवाल, स्कूल शिक्षा मंत्री प्रेमसाय टेकाम, पाली तनाखार के विधायक मोहित केरकेट्टा, सहित जिले के सभी आला अधिकारी उपस्थित थे

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button