छत्तीसगढ़

तीन साल की मासूम बच्ची की गला दबाकर हत्या

बिलासपुर।

शहर से लगे कोनी क्षेत्र के लोफंदी में ईंट भठ्ठा संचालक का दामाद दो मासूम बहनों को पकड़कर झाड़ियों के बीच ले गया। इस बीच वह बड़ी बहन से दुष्कर्म की कोशिश कर रहा था। उसकी हरकतों को देख मासूम ने बहादुरी से सामना किया और दांत से उसके हाथ को काटकर अपनी जान बचाई।

इस बीच उसने तीन साल की मासूम बच्ची को पकड़ लिया और गला दबाकर हत्या कर दी। इस घटना के बाद ग्रामीणों का आक्रोश भड़क गया। उन्होंने मिलकर आरोपित को पीट-पीटकर अधमरा कर दिया। पुलिस ने उसे हिरासत में लेकर अस्पताल में भर्ती कराया है।

मूलतः सीपत क्षेत्र निवासी कोनी क्षेत्र के लोफंदी में श्यामलाल धु्रव के ईंट भठ्ठा में काम करता है। वह यहां झोपड़ीनुमा मकान बनाकर रहता है। उसके साथ पत्नी भी काम करती है। ईंट भठ्ठा में ही श्रमिक के पिता उसकी दो मासूम बेटी की देखरेख करता था।

वहीं ईंट भठ्ठा संचालक श्यामलाल का दामाद मुंगेली जिले के पथिरया क्षेत्र के विजयकुमार नेताम पिता प्यारेलाल नेताम (30) भी वहीं पर रहता है। घटना दोपहर करीब 2.30 बजे की है। दोनों बहनें अपने घर के पास ही खेल रही थीं। उसी समय विजयकुमार पहुंचा और दोनों बहनों को पकड़कर झाड़ी तरफ ले गया। इस दौरान वह बड़ी बहन से दुष्कर्म करने की कोशिश करने लगा। उसकी हरकतों को देखकर बच्ची घबरा गई।

उसने बहादुरी से युवक के हाथ को दांत से काट दिया। फिर दौड़ते हुए अपने घर की तरफ भागने लगी। इतने में आरोपित ने उसकी छोटी बहन को पकड़ लिया। उसके चिल्लाने पर युवक ने मासूम बच्ची के मुंह को दबा दिया, जिससे बच्ची का दम घुट गया और उसकी मौत हो गई। इधर चिल्लाते हुए बड़ी बहन ने इस घटना की जानकारी अपने दादा व मां को दी।

परिजन वहां पहुंचे तब आरोपित बच्ची की लाश को झाड़ियों के बीच छिपाकर खुद छिपने की कोशिश कर रहा था। कुछ ही देर में हत्या की खबर गांव में फैल गई। देखते ही देखते ग्रामीणों की भीड़ जुट गई। इस घटना से आक्रोशित ग्रामीणों ने आरोपित विजय को पकड़ लिया और उसकी जमकर पिटाई की। इस बीच घटना की खबर पुलिस को मिली। सूचना मिलते ही पुलिस गांव पहुंच गई।

आरोपित को हिरासत में लेकर उसे इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया है। मासूम बच्ची के शव का पंचनामा के बाद आरोपित के खिलाफ हत्या का अपराध दर्ज कर लिया है।

इस घटना के बाद गांव में सनसनी फैल गई। प्रत्यक्षदर्शी ग्रामीण देवकुमार मवेशी चरा रहा था। उसने बच्ची की आवाज भी सुनी। लेकिन उसने ध्यान नहीं दिया। बाद में उसकी नजर आरोपित युवक पर पड़ी।

शराब पीकर आए दिन मचाता था हंगामा

ग्रामीणों ने पुलिस को बताया कि आरोपित युवक आदतन शराबी था। वह शराब के नशे में आए दिन उत्पात मचाता था। उसकी हरकतों को देखकर ग्रामीण परेशान हो गए थे। लेकिन बुधवार की दोपहर उसके इस तरह की गतिविधियों को देखकर ग्रामीणों का आक्रोश भड़क गया और उसकी जमकर पिटाई कर दी।

वीवीआइपी ड्यूटी में व्यस्त रही पुलिस, नहीं पहुंचे अधिकारी

शहर से लगे कोनी क्षेत्र के गांव में गंभीर वारदात होने की सूचना मिलने के बाद भी पुलिस अफसर वीवीआइ ड्यूटी में व्यस्त रहे और घटनास्थल तक नहीं पहुंचे। वहीं पुलिस की टीम को गांव भेजकर आरोपित को पकड़ने के निर्देश देकर औपचाकिरता पूरी कर ली। मासूम बच्ची की हत्या की खबर मिलने के बाद पुलिस भी विलंब से पहुंची। तब तक वहां ग्रामीणों की भीड़ जुट गई थी।

घर से मोबाइल लेकर जा रहा था आरोपित

इधर कोनी पुलिस मासूम बच्ची की हत्या को लेकर नई कहानी बता रही है। पुलिस का कहना है कि आरोपित युवक बच्चियों के घर से मोबाइल लेकर जा रहा था। इस पर उसकी मां ने मोबाइल मांगने के लिए भेजा। दोनों बहनें उससे मोबाइल मांगने गए तब युवक भड़क गया और उन्हें मारने के लिए दौड़ाया। इस बीच उसने छोटी बहन को पकड़ लिया और गला दबाकर उसकी हत्या कर दी। लेकिन पुलिस की यह बात गले नहीं उतर रही है।

Summary
Review Date
Reviewed Item
तीन साल की मासूम बच्ची की गला दबाकर हत्या
Author Rating
51star1star1star1star1star
Tags
advt