टीचर से तंग 5वीं के छात्र ने सुसाइड नोट में लिखी दर्दनाक आपबीती

गोरखपुर: स्‍कूलों से लगातार छात्रों की मौत की खबरें आने के बाद गोरखपुर से एक दर्दनाक कहानी सामने आई है. यहां पांचवीं कक्षा में पढ़ने वाले 12 वर्षीय छात्र ने इसलिए आत्‍महत्‍या कर ली कि वह टीचर से मिलने वाले पनिशमेंट से परेशान था.

उसने मौत को गले लगाने से पहले एक सुसाइड नोट भी अपनी स्‍टडी टेबल पर छोड़ा है, जिसमें उसने अपनी मैडम को मौत के लिए जिम्‍मेदार ठहराया है.

उसने सुसाइड नोट के माध्‍यम से अपने मंमी-पापा से कहा कि कि मेरी मैम से कहना ऐसी सजा किसी और को न दे.

इस मामले के सामने आने के बाद परिजन में नाराजगी है और उन लोगों ने स्‍कूल में तोड़फोड़ की.

पांचवीं कक्षा में पढ़ने वाले छात्र ने सुसाइड नोट में लिखा ‘पापा, आज 15-9-17 मेरा पहला एग्जाम था मेरी मैम क्लास टीचर ने मुझे 9.15 तक रुलाया, खड़ा रखा इसलिए क्योंकि वह चापलूसों की बात मानती है, उनकी किसी बात का विश्वास मत करिएगा, कल उन्होंने मुझे तीन पीरियड खड़ा रखा.

आज मैंने सोच लिया है कि मैं मरने वाला हूं. मेरी आखिरी इच्छा मेरी मैम को किसी बच्‍चे को इतनी बड़ी सजा न देने को कहें. अलविदा, पापा-मम्पी और दीदी’.

ऊपर लिखी लाइनें छात्र की सुसाइड नोट की हैं. उसने 15 सितंबर को जहर खाकर जान देने की कोशिश की. पता लगने पर छात्र को मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया, जहां बुधवार को उपचार के दौरान उसकी मौत हो गई.

छात्र के परिजनों को छात्र की स्टडी टेबल से एक सुसाइड नोट मिला है, इस नोट में अपनी मौत के लिए छात्र ने स्कूल टीचर को जिम्मेदार ठहराया है.

सुसाइट नोट मिलने पर गुस्‍साएं परिजनों ने स्‍कूल में जाकर तोड़फोड़ की और प्रधानाचार्य के साथ हाथापाई की.

मामला बिगड़ता देख स्‍कूल के प्रिंसिपल ने 100 नंबर पर सूचना देकर पुलिस बुला ली. छात्र के पिता ने स्कूल प्रबंधन और क्लास टीचर के खिलाफ तहरीर दी है.

पुलिस ने बताया कि परिजनों की तरफ से लगाए गए आरोपों के आधार पर मामले की जांच की जा रही है. दोषी पाए जाने पर कार्रवाई की जाएगी.

शाहपुर के मोहनापुर का रहने वाला रविप्रकाश पीपीगंज के बापू इंटर कॉलेज में शिक्षक हैं. उनका इकलौता बेटा 12 साल का नवनीत प्रकाश शाहपुर स्थित सेंट एंथोनी स्कूल में पांचवी कक्षा का छात्र था.

15 सितंबर को उसने घर पर जहर खा लिया था. बेटे ने जिस समय जहर खाया, उस समय पिता स्कूल गए थे और मां बाजार गई थी.

कुछ देर बाद मां बाजार से घर लौटी तो घर के अंदर का नजारा देखकर उसकी चीख निकल गई. बेटे के मुंह से झाग निकल रहे थे.

चीख पुकार की आवाज सुनकर आसपास के लोगों ने नवनीत को बाबा राघव दास मेडिकल कॉलेज (बीआरडी) भर्ती कराया. उपचार के दौरान बुधवार को नवनीत ने दम तोड़ दिया.

नवनीत की मौत के बाद परिवार वालों ने उसके बैग आदि की छानबीन की तो स्टडी टेबल पर एक सुसाइड नोट मिला, उसे पढ़कर मां-बाप सन्न रह गए. सुसाइड नोट से मौत की वजह सेंट एंथोनी स्कूल के क्लास टीचर को ठहराया गया.

 

[amazon_link asins=’B075PFZHZF,B06WLJZ8FM,B075HV5SLC’ template=’ProductGrid’ store=’clipper28-21′ marketplace=’IN’ link_id=’243ca6f9-9ea0-11e7-bdc7-5d4f55f749ae’]

Back to top button