तालिबान को शांति प्रक्रिया से जोड़ने के लिए, अमेरिका उठायेगा हरसंभव कदम

प्रमुख वैश्विक ताकतें तालिबान को अफगान शांति प्रक्रिया से जोड़ने का प्रयास कर रही हैं।

अफगानिस्तान में तालिबान को शांति प्रक्रिया से जोड़ने के लिए अमेरिका हरसंभव कदम उठाने को तैयार है।

एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, अमेरिका तालिबान आतंकियों को सुरक्षा के साथ-साथ रोजगार मुहैया कराने का प्रस्ताव भी दे रहा है।

इस समय अमेरिका, पाकिस्तान, चीन, रूस और अन्य प्रमुख वैश्विक ताकतें तालिबान को अफगान शांति प्रक्रिया से जोड़ने का प्रयास कर रही हैं।

अमेरिकी रक्षा मुख्यालय पेंटागन की ओर से कांग्रेस को भेजी गई योजना के हवाले से पाकिस्तान के समाचार पत्र डॉन ने लिखा, ‘तालिबान के बहुत से लड़ाके लड़ाई से ऊब कर हथियार छोड़ने पर विचार कर रहे होंगे,

लेकिन वे समाज की मुख्यधारा में तभी शामिल होंगे जब उन्हें अपनी और परिवार की सुरक्षा का पूरा भरोसा हो। साथ ही उनके पास परिवार के पोषण के लिए पर्याप्त धन कमाने का अवसर हो।’

पेंटागन ने यह उल्लेख भी किया कि स्थानीय सरकार छोटे पैमाने पर शांति का मार्ग प्रशस्त करने के लिए प्रयासरत है।

हालांकि अफगानिस्तान की सरकार ने राष्ट्रीय स्तर पर ऐसा कोई कार्यक्रम नहीं बनाया है। ट्रंप प्रशासन अफगानिस्तान में तैनात अमेरिकी सैनिकों की संख्या कम करने पर विचार कर रहा है।

पेंटागन का कहना है कि तालिबान पर शांति वार्ता में शामिल होने का दबाव बनाने के लिए सैनिकों की पर्याप्त तैनाती जरूरी है।

पेंटागन की रिपोर्ट में कहा गया, ‘पिछले 16 महीनों में अमेरिका और इसके सहयोगियों ने तालिबान को स्थायी राजनीतिक समाधान की ओर लाने की दिशा में सैन्य शक्ति का प्रयोग किया है।

इस प्रयास के कारण ही जून में ईद के मौके पर तालिबान को संघर्ष विराम के लिए तैयार होना पड़ा था।’

advt
Back to top button