राष्ट्रीय

आज तीनों सेना प्रमुखों से मुलाकात करेंगे रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह

बैठक में देश की संपूर्ण सुरक्षा स्थिति की भी की जाएगी समीक्षा

नई दिल्ली: भारत-चीन के बीच तनातनी से बाद पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर सुरक्षा की समीक्षा करने आज शुक्रवार को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह रक्षा विभाग के प्रमुख जनरल बिपिन रावत और तीनों सेना प्रमुखों के साथ बैठक करेंगे।

हाल ही में बॉर्डर रोड ऑर्गेनाइजेशन से बातचीत में राजनाथ सिंह को आश्वासत किया गया था कि LAC पर सड़क निर्माण कार्य हर हाल में पूरा होगा। बॉर्डर रोड ऑर्गेनाइजेशन एलएसी पर लगातार सड़कों का जाल बिछाने का काम कर रहा है।

टैंकों को एलएसी के पास तक ले जाने में सक्षम

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने साउथ ब्लॉक में बीआरओ के चीफ और अन्य वरिष्ठ अधिकारियों के साथ मलाकात की थी। उस दौरान एलएसी और एलओसी पर चल रही परियोजनाओं की समीक्षा की गई। हाल ही में बीआरओ ने लेह में तीन नए पुलों का निर्माण किया है, जिसकी मदद से भारतीय सेना आसानी से टैंकों को एलएसी के पास तक ले जाने में सक्षम हो गई है।

बीआरओ के चीफ लेफ्टिनेंट जनरल हरपाल सिंह ने रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह को चीन के साथ वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) और पाकिस्तान के साथ नियंत्रण रेखा (LoC) पर चल रही सड़क निर्माण परियोजनाओं की जानकारी दी।

इस दौरान बीआरओ के चीफ ने रक्षा मंत्री को आश्वासन दिया कि बॉर्डर रोड ऑर्गेनाइजेशन समय पर एलएसी और एलओसी पर चल रही परियोजनाओं को पूरा करने में कोई कसर नहीं छोड़ेगा। उन्होंने बताया कि रक्षा मंत्रालय, गृह मंत्रालय और परिवहन मंत्रालय के साथ मिलकर इन परियोजनाओं के लिए काम किया जा रहा है।

वहीं, 15 जून को भारत और चीन के बीच हुए संषर्घ को देखते हुए राजनाथ सिंह की यह बातचीत अहम हो सकती है। दोनों देशों के बीच तनातनी से बाद सुरक्षा की समीक्षा करना अहम हो जाता है।

भारतीय और चीनी सेनाएं पिछले आठ हफ्तों से पूर्वी लद्दाख में आमने-सामने हैं। इसमें गलवन घाटी में हुए संघर्ष के बाद तनाव कई गुना बढ़ गया जिसमें भारतीय सेना के 20 जवान मारे गए। चीनी पक्ष को भी हताहतों का सामना करना पड़ा, लेकिन अभी तक इसका विवरण नहीं दिया गया है।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button