बिज़नेस

आज होगा क्रेडिट पॉलिसी का ऐलान, ये है उम्मीदें

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) की ओर से मौद्रिक नीति समिति की बैठक में नीतिगत दरों में बदलाव की गुंजाइश कम है। आपको बता दें कि आरबीआई की ओर से आज मौद्रिक नीति समिति की बैठक होगी |

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) की ओर से मौद्रिक नीति समिति की बैठक में नीतिगत दरों में बदलाव की गुंजाइश कम है। आपको बता दें कि आरबीआई की ओर से आज मौद्रिक नीति समिति की बैठक होगी |

यह नए वित्त वर्ष 2018-19 की पहली द्वैमासिक मौद्रिक समीक्षा बैठक है, जो बुधवार को शुरू हुई और आज इसपर फैसला होगा। यह बैठक उर्जित पटेल के नेतृत्व में होगी। एमपीसी की बैठक में पटेल समेत 6 लोग नीतिगत दरों को लेकर विचार विमर्श करेंगे।

उद्योग संगठन फिक्की ने अर्थव्यवस्था में सुधार के संकेतों को देखते हुए आगामी मौद्रिक नीति समिति की बैठक में आरबीआई की ओर से अपने तटस्थ रुख पर बने रहने की वकालत की है।

पिछली बैठक में क्या हुआ था फैसला: एमपीसी ने 5-6 दिसंबर (2017) को हुई अपनी पिछली बैठक में वित्त वर्ष 2017-18 की अपनी पांचवीं द्वैमासिक मौद्रिक समीक्षा में बढ़ती महंगाई का हवाला देते हुए नीतिगत ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं किया था। आरबीआई ने इस बैठक में रेपो रेट को छह फीसद पर और रिवर्स रेपो रेट भी 5.75 फीसद पर बरकरार रखा था।

संगठन का कहना है, “पिछले कुछ महीनों से, आर्थिक सुधार के संकेत दिखाई दे रहे हैं, लेकिन विकास को थोड़ा और बढ़ाए जाने की जरूरत है ताकि मैन्युफैक्चरिंग का उद्धार हो सके और उसमें एक बदलाव देखा जा सके।”

भारतीय रिजर्व बैंक 5 अप्रैल को होने वाली नीतिगत समीक्षा बैठक में रेपो रेट छह फीसद पर बरकरार यथावत रह सकती है। ऐसा इसलिए क्योंकि आर्थिक विकास में सुधार और मंहगाई दर में नरमी देखने को मिल रही है। ऐसा वैश्विक वित्तीय सेवा कंपनी यूबीएस का मानना है।

यूबीएस की रिपोर्ट के मुताबिक आरबीआई मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) की स्टेटमेंट में तटस्थ रहने को लेकर सर्तक रह सकती है। रिपोर्ट में बताया गया है कि आरबीआई का मार्च तिमाही के लिए 5.1 फीसद का अनुमान था। फरवरी महीने में खुदरा महंगाई घटकर 4.4 फीसद रही है।

Summary
Review Date
Reviewed Item
आज होगा क्रेडिट पॉलिसी का ऐलान, ये है उम्मीदें
Author Rating
51star1star1star1star1star

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *