Tokyo Olympics 2020: तीसरे क्वॉर्टर में भारत ने तेज किए अपने हमले, बैक टू बैक गोल, स्कोर 5-3

जापान के टोक्यो शहर में लगा ओलंपिक मेला अब अपने 14वें दिन सफर पहुंच गया है. भारत से आज हॉकी, कुश्ती और एथलेटिक्स स्पर्धाओं में मेडल की उम्मीद है. लेकिन देश को कुश्ती और हॉकी से सबसे ज्यादा उम्मीदें हैं.

भारतीय पुरुष हॉकी टीम भले सेमीफाइनल मैच में बेल्जियम से हार गई हो. लेकिन मनप्रीत सिंह की कप्तानी वाली टीम के पास अब भी टोक्यो ओलंपिक में पदक जीतने का मौका बाकी है. गुरुवार को भारतीय टीम तीसरे स्थान यानी ब्रॉन्ज मेडल मैच के लिए जर्मनी से टक्कर लेगी.

अगर भारत यहां जर्मनी को हरा देता है तो ओलंपिक खेलों में 41 साल बाद उसे कोई मेडल हासिल होगा. भारतीय टीम 1980 में मॉस्को ओलंपिक में गोल्ड जीतने के बाद भारत को इस खेल से कोई ओलंपिक पदक नहीं मिल पाया है. अगर हॉकी में ओलंपिक ब्रॉन्ज मेडल की बात करें तो भारत ने अब तक सिर्फ दो बार ही ब्रॉन्ज मेडल अपने नाम किया है.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button