इस राज्य में सड़क टूटने से 150 रुपये किलो बिक रहा टमाटर…

उत्तराखंड में 17 अक्टूबर से 19 अक्टूबर तक हुई तीन दिनों की बारिश ने गढ़वाल से लेकर कुमाऊं तक तबाही मचाई. तबाही वाली बारिश से मौत का आंकड़ा बढ़कर 64 हो गया है वहीं 19 लोगों की हालत गम्भीर है. पांच लोग अभी भी लापता हैं जबकि करीब 50 मकान पूरी तरह से जमींदोज हुए हैं. अत्यंत भारी बारिश से उत्तराखंड में करीब 6 हजार करोड़ का नुकसान होने का आंकलन है.

गृहमंत्री अमित शाह ने जाना हवाई सर्वेक्षण से आपदा का सूरते-हाल

गृहमंत्री अमित शाह बुधवार देर रात को देहरादून पहुंचे जिसके बाद आज उन्होंने आपदा ग्रस्त इलाकों का हवाई सर्वेक्षण किया. अमित शाह के साथ सीएम धामी, केंद्रीय राज्य मंत्री अजय भट्ट और मुख्य सचिव एसएस संधू हवाई सर्वेक्षण में मौजूद रहे. अमित शाह ने कहा कि समय पर चेतावनी मिलने की वजह से बड़ी जनहानि नहीं हुई है. अमित शाह ने कहा कि केंद्र सरकार देवभूमि के साथ है. कुछ समय पहले ढाई सौ करोड़ का पैकेज राज्य को दिया गया है. अभी कुछ दिनों में केंद्र की टीम सर्वे करेगी. शाह ने कहा कि मदद के लिए पूरी ताकत केंद्र ने झोंकी है. अमित शाह ने राज्य सरकार की भी आपदा में किये गये काम की तारीफ की.

भूस्खलन से कई मार्ग बंद, 150 रुपये किलो बिक रहा टमाटर

बारिश का सिलसिला थम चुका है लेकिन भूस्खलन से सैकड़ों मार्ग बंद पड़े हुए हैं. पिथौरागढ़ राष्ट्रीय राजमार्ग 09 जौलजीबी के पास बंद है. धोली नदी का जलस्तर झूलापुल तक पहुंच चुका है जबकि झूलाघाट मे भारत नेपाल को जोड़ने वाले झूलापुल के करीब काली नदी का जलस्तर भी पहुंच गया है. बीते मंगलवार से बीएसएनएल, आईडिया, जियो की संचार सेवा बाधित है. राष्ट्रीय राजमार्ग पिथौरागढ़-टनकपुर व अल्मोड़ा पिथौरागढ़ मार्ग जगह-जगह भूस्खलन होने से बंद है. ऐसे में मंडियों में सब्जी नहीं पहुंच पाने के चलते पिथौरागढ़ मुख्यालय में टमाटर 150 रुपये किलो तक पहुंच गया है.

चारधाम यात्रा हुई सुचारू, भारी बारिश के चलते लगाई गई थी अस्थाई रोक

भारी बारिश के चलते चारधाम यात्रा पर अस्थाई रोक लगाई गई थी. लेकिन अब सड़कों को दुरुस्त कर यात्रा को खोल दिया गया है. चारों धाम में यात्रा शुरू हो गई है. आज ऋषिकेश से तीर्थयात्रियों को चारधाम यात्रा के लिए भेजना शुरू हो गया है. गुरुवार को प्रदेश में धूप है जबकि चारधाम में बादल भी छाए हुए हैं. चारों धामों में मौसम सर्द है लेकिन बारिश नहीं है.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button