उत्तर प्रदेशराजनीतिराष्ट्रीय

अमेरिका की टॉप कंपनियां योगी के यूपी में निवेश करेंगी

आने वाले समय में अमेरिका की टॉप कंपनियां उत्तर प्रदेश में निवेश करेंगी. अमेरिका की कई बड़ी कंपनियों ने सूबे में निवेश के प्रति अपनी दिलचस्पी दिखाई है.
अमेरिका की 26 प्रमुख कंपनियों के 50 सदस्यों के प्रतिनिधिमंडल ने सोमवार को योगी सरकार के कैबिनेट मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह से मुलाकात की. इस मीटिंग का मकसद प्रदेश में निवेश की संभावनाएं तलाशना था.

सिद्धार्थनाथ सिंह ने प्रतिनिधिमंडल का स्वागत करते हुए कहा कि अमेरिकी कंपनियां उत्तर प्रदेश में निवेश करने के लिये आएं. हम ‘अतिथि देवो भवः’ की भावना के साथ उनका ‘रेड कार्पेट’ स्वागत करेंगे.

उन्होंने कहा ‘आप प्रदेश में अपने निवेश के जरिए रोजगार के अवसर पैदा करेंगे. इससे हमारे संकल्प पत्र का वादा पूरा होगा. आप सभी का हृदय से स्वागत है.’
यूपी को अमेरिकी कंपनियों द्वारा निवेश के लिहाज से बेहद आकर्षक करार देते हुए सिंह ने कहा, ‘प्रदेश की वर्तमान योगी आदित्यनाथ सरकार की सोच पूर्व की सरकारों से अलग है. हम अतिथि देवो भवः की सच्ची भावना के साथ आपका रेड कार्पेट स्वागत करेंगे.’
उन्होंने कहा, ‘हम यह सुनिश्चित करने के लिए कड़ी मेहनत करेंगे कि अमेरिकी प्रतिनिधिमंडल दूसरे प्रदेशों में निवेश करने ना जाएं, बल्कि केवल उत्तर प्रदेश में निवेश करें. बेहतर इको सिस्टम उपलब्ध कराकर हम इस लक्ष्य को हासिल कर सकते हैं.’

यूपी की बीजेपी सरकार ने ‘वाइब्रेंट गुजरात’ की तर्ज पर ‘यूएस इन यूपी’ टैग लाइन के साथ अमेरिकी कंपनियों को प्रदेश में निवेश के लिए न्योता भेजा था. इसी के तहत इन कंपनियों के प्रतिनिधि यूएस-इंडिया स्ट्रैटिजिक पार्टनरशिप फोरम (यूएसआईएसपीएफ) के बैनर तले यहां आए थे.
‘वाइब्रेंट गुजरात’ की तर्ज पर ‘यूएस इन यूपी’ का विचार पेश किया

सिंह ने बताया कि योगी सरकार ने ‘वाइब्रेंट गुजरात’ की तर्ज पर ‘यूएस इन यूपी’ का विचार पेश किया है. इसका उद्देश्य प्रदेश में रसायन, पेट्रोकेमिकल्स, फार्मास्यूटिकल्स, सीमेंट, माणिक्य, वस्त्र और इंजीनियरिंग के क्षेत्र में निवेश की संभावनाओं को दिखाना है.
उन्होंने बताया कि अमेरिका के एक छोटे प्रतिनिधिमंडल ने दो महीने पहले उत्तर प्रदेश का दौरा करके यह महसूस किया था कि सूबे में निवेश की आपार संभावनाएं हैं. उसी के बाद सोमवार को एक बड़े प्रतिनिधिमंडल ने उनसे मुलाकात की है.

सिंह ने बताया कि अमेरिकी कंपनियों के इस हाईप्रोफाइल दौरे की बुनियाद बीते जून में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अमेरिका यात्रा के दौरान पड़ी थी. तब उन्होंने अमेरिकी कंपनियों को भारत में निवेश के लिए खुले दिल से आमंत्रित किया था.

Summary
Review Date
Reviewed Item
अमेरिका
Author Rating
51star1star1star1star1star
Tags

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *