ट्रेन-18 का नाम होगा ‘वंदे भारत एक्सप्रेस’, पीएम मोदी जल्द दिखाएंगे हरी झंडी: पीयूष गोयल

नई दिल्ली।

केंद्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि ट्रेन 18 पूरी तरह से देश में तैयार की गई है और इसका नाम वंदे भारत एक्सप्रेस होगा। उल्लेखनीय है कि भारतीय रेल की महत्वाकांक्षी ट्रेन18 को तीन दिनों की जांच के बाद सरकार के विद्युत निरीक्षक (ईआईजी) की मंजूरी मिल गई है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक हफ्ते के भीतर इस रेलगांड़ी को हरी झंडी दिखा सकते हैं। यह बहुप्रतीक्षित रेलगाड़ी परीक्षण परिचालन पूरा करने के बाद पिछले एक महीने से अधर में अटकी हुई थी। इसे रेलवे सुरक्षा मुख्य आयुक्त ने शर्तों के साथ मंजूरी दी थी।

रॉलिंग स्टॉक विभाग की आपत्तियों के बाद भी रेलवे बोर्ड ने ट्रेन18 को ईआईजी परीक्षण के लिए सोमवार को भेज दिया था। सूत्र ने बताया कि जांच रिपोर्ट बोर्ड के पास भेजी जाएगी। इसके बाद यह तय किया जाएगा कि इसे हरी झंडी किस रोज दिखाई जाएगी।

ट्रेन-18 सेट की खासियत

16 बोगियों वाली इस रेलगाड़ी को 18 महीने में 97 करोड़ रुपए की लागत से तैयार किया गया है। इसे 30 साल
पुरानी शताब्दी एक्सप्रेस का उत्तराधिकारी माना जा रहा है।
ट्रेन-18 में अलग से कोई इंजन नहीं है। इस रेलगाड़ी के एक सेट में 16 डिब्बे लगे हैं।
इसे पहले दिल्ली-वाराणसी के बीच चलेगी।
इसकी अधिकतम रफ्तार 160 किलोमीटर प्रति घंटा है।
ट्रेन-18 को रायबरेली स्थित मॉर्डन कोच फैक्टरी ने 18 महीने में तैयार किया है।
यह देश की पहली इंजन-रहित रेलगाड़ी होगी।
पूरी तरह से वातानुकूलित इस रेलगाड़ी में दो एक्जीक्युटिव कुर्सीयान होंगे।
दिल्ली और वाराणसी के मार्ग पर यह बीच में कानपुर और इलाहाबाद रुकेगी।

1
Back to top button