एकीकृत किसान पोर्टल में आगामी खरीफ विपणन वर्ष 2021-22 हेतु किसान पंजीयन के संबंध में प्रशिक्षण संपन्न’

कलेक्टर डॉ गौरव कुमार सिंह के निर्देश पर जिला पंचायत सभाकक्ष में आगामी खरीफ वर्ष 2021-22 हेतु धान खरीदी के लिए किसान पंजीयन के संबंध में प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन

सूरजपुर 6 अक्टूबर 2021 : कलेक्टर डॉ गौरव कुमार सिंह के निर्देश पर जिला पंचायत सभाकक्ष में आगामी खरीफ वर्ष 2021-22 हेतु धान खरीदी के लिए किसान पंजीयन के संबंध में प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन जिला पंचायत सीईओ राहुल देव की उपस्थिति में किया गया। प्रशिक्षण कार्यक्रम में वरिष्ठ कृषि विकास अधिकारी, ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारी, ग्रामीण उद्यान विस्तार अधिकारी एवं सहकारी समिति के प्रबंधक व ऑपरेटर उपस्थित थे। जिला पंचायत सीईओ राहुल देव ने धान के बदले अन्य फसल का उत्पादन करने वाले किसानों का सत्यापन कर प्रविष्टि कार्य में प्रगति लाने के निर्देश दिए।

प्रशिक्षण में उप संचालक कृषि कोसले, सहायक संचालक कृषि पैंकरा,खाद्य अधिकारी विजय किरण एवं गौरी शंकर शर्मा, जिला पंजीयक सहकारी संस्थाएं,जिला विपणन अधिकारी उपेंद्र कुमार ने बताया कि किस प्रकार एकीकृत किसान पोर्टल में किसानों का पंजीयन किया जाएगा। पिछले वर्ष तक धान खरीदी के लिए पंजीयन खाद्य विभाग के पोर्टल से तथा तहसील मॉड्यूल में किया जा रहा था, परंतु इस वर्ष कृषि विभाग के एकीकृत किसान पोर्टल (UFP) में नए किसानो का पंजीयन किया जाएगा।

कृषक एकीकृत किसान पोर्टल पर अपना पंजीयन करा सकते हैं। कृषक पंजीयन कराने हेतु आवेदन प्रपत्र 1 के साथ आवश्यक दस्तावेज ऋण पुस्तिका, बी 1, आधार नंबर, बैंक पासबुक की छायाप्रति के साथ अपने क्षेत्र के ग्रामीण कृषि एवं उद्यान विस्तार अधिकारी के पास जमा कर पावती प्राप्त करेंगे। किसानों से प्राप्त आवेदन पत्रों का ग्रामीण कृषि एवं उद्यान विस्तार अधिकारी के द्वारा परीक्षण एवं सत्यापन किया जाएगा।

ऑनलाइन सत्यापन 

तत्पश्चात संबंधित कृषि अधिकारी के द्वारा पोर्टल पर कृषक का संबंधित ग्राम चयन कर ऑनलाइन सत्यापन किया जाएगा। सत्यापन पश्चात संबंधित अधिकारी क्षेत्र के संबंधित सहकारी समिति में जमा किया जाएगा। सहकारी समिति द्वारा कृषक के आवेदन पत्र के अनुसार एकीकृत किसान पोर्टल पर कृषक पंजीयन की कार्यवाही की जाएगी। ऐसे कृषक जो अपने फसल एवं रकबे में संशोधन करना चाहते हैं वे ऋण पुस्तिका एवं एवं बी 1 की छायाप्रति के साथ प्रपत्र 2 में आवेदन करना होगा। ऐसे कृषक जो अपने व्यक्तिगत विवरण, आधार नंबर, बैंक विवरण आदि में संशोधन कराना चाहते हैं वे दस्तावेज के साथ प्रपत्र 3 में आवेदन जमा करेंगे।

पंजीकृत कृषक की मृत्यु होने की स्थिति में वारिसन पंजीयन हेतु वारिसन द्वारा प्रपत्र 4 आवश्यक दस्तावेज के सा तहसील कार्यालय में आवेदन पत्र जमा किया जाएगा। इस पोर्टल के माध्यम से प्राप्त डेटा का उपयोग राजीव गांधी किसान न्याय योजना,मुख्यमंत्री वृक्षारोपण प्रोत्साहन योजना,धान एवम मक्का उपार्जन योजना तथा कोदो,कुटकी एवं रागी उपार्जन के हितग्राहियों तथा बीज उत्पादन करने वाले किसानों को लाभान्वित करने के लिए किया जाएगा। इस प्रकार इस पोर्टल के आ जाने से हितग्राहियों को अलग अलग योजना के लिए अलग अलग स्थान पर पंजीयन कराने की आवश्यकता नहीं पड़ेगी,एक ही पोर्टल पर पंजीयन से शासन की सम्बन्धित सभी योजनाओं का लाभ लिया जा सकेगा।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button