बड़ी खबरराष्ट्रीय

जल्द ही पैरामिलिट्री फोर्सेज का हिस्सा बनेंगे ट्रांसजेंडर, BSF ने कहा-हमें कोई आपत्ति नहीं

सीआरपीएफ में पहले से जेंडर न्यूट्रल वर्क एनवायरमेंट है

ट्रांसजेंडर समुदाय (Transgender Community) को समाज में बढ़ावा देने के लिए पिछले साल “ट्रांसजेडर प्रोटेक्शन एक्ट” कानून को पारित किया गया था. इसी के चलते सीमा सुरक्षा बल (BSF), केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल( CRPF) और सशस्त्र सीमा बल के अधिकारियों ने केंद्रीय गृह मंत्रालय से शुक्रवार को कहा कि इस साल ट्रांसजेंडर व्यक्तियों को केडर असिस्टेंट कमांडर पोस्ट पर भर्ती करेंगे.

डायरेक्टर जनरल एपी महेश्वरी ने कहा, “सीआरपीएफ में पहले से जेंडर न्यूट्रल वर्क एनवायरमेंट है, हम एमएचए की गाइडलाइंस को अपनी जरूरतों के हिसाब से पूरी करने की कोशिश करेंगे.”

इंडो तिब्बत बॉर्डर पुलिस के चीफ एस.एस देसवाल, जो कि सीमा सुरक्षा बल (BSF) के डायरेक्टर जनरल हैं उन्होंने कहा, हमें कोई आपत्ति नहीं है. इसके बारे में हम पैरामिलिट्री फोर्स से बात करेंगे.

आईटीबीपी और सेंट्रल इंडस्ट्रियल सिक्योरिटी फोर्स ने कहा कि आने वाले कुछ दिनों में इस अधिकारिक जानकारी पर बात करेंगे.

Home Ministry

गृह मंत्रालय ने बुधवार को सेंट्रल पैरामिलिट्री फोर्स (CAPF) से कहा कि दिसंबर में होने वाली भर्ती के आवेदन में थर्ड जेंडर कैटिगरी रखे. इस मामले पर सेंट्रल पैरामिलिट्री फोर्स द्वारा की गई टिप्पणियों को यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन से साझा किया जाएगा जिसके अुनसार एग्जाम कंडक्ट किया जाएगा.

गृह मंत्रालय को सबसे पहले जून में और फिर 1 जुलाई को एक पत्र भेजा गया था.

डिपार्टमेंट ऑफ पर्सनल ट्रेनिंग ने अप्रैल में सभी केंद्रीय सरकारी विभागों को नोटिस जारी कर कहा कि सभी सरकारी नौकरियों की वेकेंसी के लिए ट्रांसजेंडर की एक कैटिगरी होनी चाहिए. जिसमें सिविल सर्विस भी शामिल है.

अभी तक सेंट्रल पैरामिलिट्री फोर्स में ट्रांसजेंडर की भर्ती नहीं की जाती है. छत्तीसगढ ट्रांसजेडर वेलफेयर बोर्ड के सदस्य विद्युत राजपूत ने कहा कि हम इस फैसले का स्वागत करते हैं, ट्रांस पर्सन्स के लिए सभी सरकारी नौकरियों में अलग से सीटें होगी, जो समाज में ट्रांसजेंडर के लिए बहुत जरूरी है.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button