छत्तीसगढ़राजनीतिराष्ट्रीय

महासमुंद और खल्लारी में त्रिकोणीय मुकाबला

प्रदीप शर्मा

महासमुंद विधानसभा क्षेत्र खल्लारी विधानसभा क्षेत्र

महासमुंद में दिख रहे

हैं बदलाव के आसार 

खल्लारी में भाजपा के आगे

जीत बचाने की चुनौती

विमल चोपड़ाचुन्नीलाल साहूछत्तीसगढ़ राज्य बनने के बाद जिन सीटों में लगातार बदलाव वाले नतीजे सामने आते रहे हैं उनमें सामान्य वर्ग की सीट महासमुंद और खल्लारी भी शामिल है। इन दोनों विधानसभाओं में बारी-बारी से भाजपा और कांग्रेस के उम्मीदवार चुनाव कर विधानसभा में पहुंचते रहे हैं। महासमुंद में वर्तमान में भाजपा से बगावत कर निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में जीत दर्ज कर डॉ. विमल चोपड़ा विधायक चुने गए हैं वहीं खल्लारी से वर्तमान में भाजपा के चुन्नीलाल साहू विधायक चुने गए हैं।

रायपुर: महासमुंद सामान्य विधानसभा सीट पर साल 2003 के विधानसभा चुनाव में भाजपा ने जीत हासिल की थी। इस चुनाव में भाजपा ने पूनम चंद्राकर को अपना उम्मीदवार बनाया था वहीं कांग्रेस की ओर से अग्नि चंद्राकर मैदान में थे। जिसमें भाजपा के पूनम चंद्राकर ने सीधे मुकाबले में कांग्रेस के अग्नि चंद्राकर को 1611 मतों से हराया। भाजपा के पूनम चंद्राकर को 41812 मत मिले वहीं कांग्रेस के 40201 मतों से संतोष करना पड़ा।

साल 2008 के विधानसभा चुनाव में मतदाताओं ने बदलाव पर मुहर लगाते हुए कांग्रेस को जीत दिला दी। इस चुनाव में भाजपा ने अपना उम्मीदवार बदलते हुए साहू समाज के मोतीलाल साहू को अपना उम्मीदवार बनाया था, मगर की चाल कामयाब नहीं रही है और मोतीलाल साहू को कांग्रेस के अग्नि चंद्राकर से 544 मतों के अंतर हार का सामना करना पड़ा। इस चुनाव में कांग्रेस के अग्नि चंद्राकर को 52667 मत मिले वहीं भाजपा के मोतीलाल साहू को 47623 मतों से संतोष करना पड़ा।

साल 2013 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने अपने पुराने चेहरे अग्नि चंद्राकर को दोबारा अपना उम्मीदवार बनाया था। इस चुनाव में कांग्रेस को एंटी इनकम्बेंसी फैक्टर की वजह से हार का सामना करना पड़ा। कांग्रेस के अग्नि चंद्राकार को निर्दलीय डॉ. विमल चोपड़ा से हार का सामना करना पड़ा। भाजपा को तीसरे स्थान पर संतोष करना पड़ा। निर्दलीय डॉ. विमल चोपड़ा ने त्रिकोणीय मुकाबले में कांग्रेस के अग्नि चंद्राकर को 4722 मतों से हराया। निर्दलीय डॉ. विमल चोपड़ा को 47416 मत मिले वहीं कांग्रेस के अग्नि चंद्राकर को 42694 मतों से संतोष करना पड़ा।

आने वाले चुनाव में इस बार महासमुंद विधानसभा चुनाव में जोगी कांग्रेस-बसपा गठबंधन भी अपने उम्मीदवार मैदान में उतरेगा। वहीं निर्दलीय विधायक डॉ. विमल चोपड़ा की दावेदारी से मुकाबला चतुष्ठकोणीय होने के आसार हैं। वहीं कांग्रेस की ओर से अग्नि चंद्रकार की भी पुख्ता दावेदारी है। इस बार भाजपा अपना उम्मीदवार किसे बनाती है ये अभी तक तय नहीं है।

खल्लारी में भाजपा के आगे जीत बचाने की चुनौती

साहू मतदाता बहुल्य खल्लारी सामान्य विधानसभा सीट पर साल 2003 में भाजपा के प्रीतम सिंह दीवान ने जीत हासिल की थी। वहीं कांग्रेस की ओर से भेखराम साहू मैदान में थे। जिन्हें भाजपा के प्रीतम सिंह दीवान के हाथों 5625 मतों के अंतर से हार का सामना करना पड़ा। भााजपा के प्रीतम सिंह दीवान को 33701 मत मिले वहीं कांग्रेस के भेखराम साहू को 28076 मतों से संतोष करना पड़ा।

साल 2008 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस अपने उम्मीदवार में बदलाव करते हुए परेश बागबाहारा को मैदान में उतरा था। इस चुनाव में कांग्रेस की चाल कामयाब रही। वहीं एंटी इनकम्बेंसी फैक्टर की वजह से भाजपा के प्रीतम सिंह दीवान को हार का सामना करना पड़ा। कांग्रेस के परेश बागबाहारा ने सीधे मुकाबले में भाजपा के प्रीतम सिंह दीवान को 22505 मतों से हराया। इस चुनाव में कांग्रेस के परेश बागबाहारा को 66074 मत मिले वहीं भाजपा के प्रीतम सिंह दीवान को 43569 मतों से संतोष करना पड़ा।

साल 2013 के विधानसभा चुनाव में मतदाताओं का मूड बदला और उन्होंने बदलाव पर मुहर लगाते हुए भाजपा को जीत दिला दी। इस चुनाव में भाजपा ने अपना उम्मीदवार बदलते हुए चुन्नीलाल साहू को मैदान में उतारा था वहीं कांग्रेस ने परेश बागबाहार को दोबारा अपना प्रत्याशी बनाया था। जिन्हें एंटी इनकम्बेंसी की वजह से भाजपा के चुन्नीलाल साहू के हाथों 5999 मतों के अंतर से हार का सामना करना पड़ा। इस चुनाव में भाजपा के चुन्नीलाल साहू को 58652 मत मिले वहीं कांग्रेस के परेश बागबाहार को 52653 मतों से संतोष करना पड़ा।

आने वाले चुनाव में भाजपा के सामने खल्लारी विधानसभा सीट पर अपनी जीत बचाने की चुनौती होगी तो कांग्रेस के सामने दमदार प्रत्याशी की तलाश। फिलहाल इस सीट पर जोगी कांग्रेस और बसपा गठबंधन भी मजबूत दावेदारी कर रहा है ऐसे में आगामी चुनाव में त्रिकोणीय मुकाबले के आसार हैं।

Summary
Review Date
Reviewed Item
छत्तीसगढ़ राज्य बनने के बाद जिन सीटों में लगातार बदलाव वाले नतीजे सामने आते रहे हैं उनमें सामान्य वर्ग की सीट महासमुंद और खल्लारी भी शामिल है।
Author Rating
51star1star1star1star1star
Tags